After the resignation of Sukhpal Khaira, there was a collision between Kejriwal and Sisodia.

नई दिल्ली उमाशंकर त्रिपाठी सुखपाल सिंह खैरा ने आम आदमी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है और कुछ दिन पहले ही एचएस फुल्का ने भी आम आदमी पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और आम आदमी पार्टी से सस्पेंड चल रहे विधायक सुखपाल सिंह खैरा के इस्तीफे के साथ आम आदमी पार्टी के 2 बड़े खास लीडर जिनकी आपसी विचारधारा के अंदर एक बढ़ा टकराव सामने निकल कर आया आम आदमी पार्टी के कौमी कन्वीनर और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को खैरा दलित विरोधी और सत्ता के लालची लगते हैं और दूसरी तरफ दिल्ली के उपमुख्यमंत्री ने जिनका नाम मनीष सिसोदिया है उन्होंने सुखपाल सिंह खैरा देश को बचाने के लिए काबिल नजर आ रहे हैं

सुखपाल खैरा पहले एमएलए के पद से इस्तीफा दें :हरपाल चीमा

और खास बात यह है कि जहां दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सुखपाल सिंह खैरा को आम आदमी पार्टी के अंदर रखने के लिए वकालत करते नजर आए वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सुखपाल सिंह खैरा को दलित विरोधी करार दिया और ऐसे लोगों को पार्टी के अंदर से जाने का संदेश देते नजर आए पंजाब के विरोधी झील पंजाब आम आदमी पार्टी के एलोपी रह चुके पंजाब के बुलेट पलट बुलेट से विधायक सुखपाल सिंह खैरा के इस्तीफे के बाद मनीष सिसोदिया ने एक बड़ा बयान दिया उन्होंने कहा कि अगर सुखपाल सिंह खैरा देश के लिए काम करना चाहते हैं तो उनको हमारे साथ रहना चाहिए और अगर वह अपने निजी कारण से कोई और काम करना चाहते हैं तो वह कहीं भी जा सकते हैं उनके लिए सब दरवाजे खुले हैं

सुखपाल,केजरीवाल दोनों ही मौकापरस्त : राजकुमार वेरका

केजरीवाल ने इस मौके पर आम आदमी पार्टी अमेरिका से इंचार्ज इंडिया सोशल और लेखक अंकित लाल के ट्वीट के विरुद्ध किए गए क्रमवार ट्वीट्स को अपने ट्विटर के अकाउंट के ऊपर साझा किया अंकित ने सुखपाल सिंह खैरा के ऊपर कुर्सी की ताकत का और दलित को विधानसभा के अंदर एलोपी का नेता बनाए जाने के बाद पार्टी को कमजोर और विद्रोह करने के दोष लगाएं और उन्होंने कहा कि सतपाल सिंह खैरा का इस्तीफा परवान कर लिया गया है आम आदमी पार्टी आने वाले दिनों के अंदर पंजाब इकाई को और ज्यादा मजबूत बनाएगी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अंकित के विचारों के साथ अपनी सहमति का की है और उन्होंने यह बात भी सबके साथ साझा की और इस बात से अब यह साफ हो चुका है कि वह आम आदमी पार्टी के अंदर सुखपाल सिंह खैरा को नहीं रखना चाहती इसके लिए वह बिल्कुल भी सहमत नहीं है जबकि दूसरी तरफ पंजाब के अंदर एलोपी के पद से उतारने का फरमान जारी करने वाले मनीष सिसोदिया ने सुखपाल सिंह खैरा के साथ रहने की इच्छा प्रकट आई है और यह बात भी फाइनल है कि बाद में मनीष सिसोदिया ने केजरीवाल के विचारों को शांति देते हुए पार्टी के अंदर सुखपाल सिंह खैरा को विरोधी करार दे दिया है

पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर पति को मरवा दिया और पति का कर दिया Carrot गुल्ला