Big earthquake in Karnataka’s state: Yeddyurappa asked all his MLAs to come back from Bengaluru to Bangalore

कर्नाटक (उमाशंकर त्रिपाठी):- कर्नाटक के सियासी नाटक में एक ऐसा मोड़ा गया जिसको सुनकर आप भी चौंक जाएंगे कर्नाटक प्रदेश के अंदर राजनीतिक हलचल के बीच भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदुरप्पा ने पार्टी के सभी विधायकों को बेंगलुरु वापस बुला लिया है और आपको बता दें कि कर्नाटक में विधायकों की खरीद-फरोख्त की खबरों के बीच भारतीय जनता पार्टी के विधायकों को देश की राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम की एक सितारा होटल में शिफ्ट किया गया था और कर्नाटक प्रदेश में कांग्रेस जेडीएस गठबंधन और विपक्षी दलों बीजेपी एक दूसरे के ऊपर यह बड़े आरोप लगा रहे थे कि विधायकों की खरीद-फरोख्त करने की कोशिश चल रही है और ऐसी खबरें कई दिनों से निकल कर आ रही थी जिसको देखते हुए विधायकों को छुपा कर रखा हुआ था मगर आज भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदुरप्पा ने अपने सभी विधायकों को बेंगलुरु वापस बुला लिया

ये भी पढ़ें: Bhaiyyu Maharaj case: लड़की ने अश्लील वीडियो बनाकर महाराज को ब्लैकमेल किया, जो आत्महत्या की वजह बना

कर्नाटक के विधानसभा के अंदर कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया द्वारा भारतीय जनता पार्टी पर कांग्रेस विधायकों के खरीद-फरोख्त करने की कोशिश का बड़ा आरोप लगाया गया था कि वह उनके विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रहे हैं कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा था कि कांग्रेस पार्टी के विधायकों को भारतीय जनता पार्टी के इस खरीदो फरोख्त के कार्यक्रम से बचाने के लिए कांग्रेस के सभी विधायकों को एक खास रिजॉर्ट में शिफ्ट कर दिया है और कर्नाटक की सियासत में ऐसा पहली बार नहीं हो रहा कि यह खरीदो फरोख्त अभी शुरू हुआ है यह बहुत देर पहले से ही चलता रहा है

ये भी पढ़ें: महारैली के अंदर ममता के साथ विपक्ष का बड़ा जमावड़ा, बीजेपी को सत्ता से उखाड़ फेंकने की नई रणनीति तैयार

कर्नाटक विधानसभा की बात करें तो 224 सदस्य कर्नाटक विधानसभा के अंदर कांग्रेस और जेडीएस के 118 विधायक हैं जबकि भारतीय जनता पार्टी के पास कर्नाटक के अंदर 104 विधायक हैं 18 जनवरी को कांग्रेस के 4 असंतुष्ट विधायक पार्टी की बैठक से गायब हो गए थे और यह बैठक भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ एकजुटता दिखाने के लिए कांग्रेस की तरफ से बुलाई गई थी हालांकि इसमें 4 कांग्रेसी विधायकों ने सरकार से समर्थन वापस लेने पर भी कुमार स्वामी सरकार को कोई खतरा नहीं है क्योंकि दो क्योंकि 224 संसदीय कर्नाटक विधानसभा में बहुमत के लिए 113 सदस्यों की जरूरत रहती है

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019 / चुनाव आयोग मार्च के पहले हफ्ते चुनाव की तारीखों का ऐलान कर सकता है

कर्नाटक में जेडीएस कांग्रेस गठबंधन का एक बड़ा आरोप है कि कर्नाटक में विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी के नेतृत्व वाली जेडीएस कांग्रेस गठबंधन सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं और वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का बड़ा आरोप है कि एचडी कुमार स्वामी के नेतृत्व वाली जेडीएस कांग्रेस गठबंधन सरकार विधायकों की खरीद-फरोख्त करके भारतीय जनता पार्टी को कमजोर करने का प्रयास कर रही है और वहीं कांग्रेस पार्टी ने भी यह दावा कर दिया है कि उनके 5 विधायक लापता हैं और वहीं कांग्रेस पार्टी ने भी यह एक बड़ा आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी ने कर्नाटक में एक और ऑपरेशन लोटस लॉन्च किया है और आपको यह भी बता दे कि ऑपरेशन लॉट्स का इस्तेमाल सबसे पहले 2008 में हुआ था उस समय भारतीय जनता पार्टी के ऊपर एक बड़ा आरोप लगा था कि कर्नाटक में येदुरप्पा सरकार को स्थिर रखने के लिए विपक्षी विधायकों को निशाना बनाया जा रहा था वैसा ही अब देखने को मिल रहा है कर्नाटक की सियासत के अंदर

और वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी अपने विधायकों को गुरुग्राम से भला कर अब बेंगलुरु वापस लाने की तैयारी में और कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के ऊपर करारा हमला बोला है और दिनेश गुंडू राव ने कहा है कि यह शर्म की बात है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अमित शाह कर्नाटक की गठबंधन सरकार को अस्थिर करने की पूरी पूरी कोशिश में जुटे हुए हैं और इसके साथ ही कर्नाटक में अवैधानिक तरीके से भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाने के प्रयास ग्रीन प्रतिदिन मोदी और अमित शाह की तरफ से किए जा रहे हैं और आने वाले लोकसभा चुनाव के अंदर जनता भारतीय जनता पार्टी को अच्छा सबक सिखाएगी यह भी इनको जान लेना चाहिए

ये भी पढ़ें: भारत में युद्ध नहीं तो सैनिक क्यों शहीद हो रहे हैं भागवत का एक बड़ा बयान

और यह सब कमरे निकलने के बाद कर्नाटक भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदुरप्पा ने कांग्रेस के इन सभी आरोपों को सिरे से नकार दिया और बीएस येदुरप्पा में बेंगलुरु में यह बयान दिया कि हमारे विधायक गुरुग्राम में है अब बेंगलुरु लौट रहे हैं और उसके बाद हम सब लोग मिलकर के राज्य का दौरा करेंगे और राज्य के अंदर सूखे की स्थिति का जायजा भी लिया जाएगा हम किसी भी कीमत के ऊपर कर्नाटक की मौजूदा सरकार को अस्थिर नहीं करेंगे और कांग्रेस पार्टी जीडीएस को इस संबंध में किसी भी तरह की चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है वह अपना काम करते रहे और हम जो अपना काम कर रहे हैं