गुरदासपुर :- रिपोर्टर:–सुखबीर सिंह गुरदासपुर
गरीब वर्ग के लोग हमेशा ही सरकार की तरफ से गरीबो को दिए जाने वाले अनाज में हो रही घपलेबाजी के लिए अधिकारियों के पास शिकायतें करते रहते है लेकिन गुरदासपुर में एक मामला सामने आया है जहाँ फूडसप्लाई विभाग के इंस्पेक्टरों ने खुद ही अपने विभाग की पोल खोल कर रख दी है
फूडसप्लाई विभाग के इंस्पेक्टरों ने अपने ही विभाग के एक सप्लाई इंसपेक्टर पर गरीबों को दिए जाने वाले अनाज में हेरा फेरी करने के आरोप लगाए है इंस्पेक्टरों का कहना है कि सुमित कुमार नाम का सप्लाई इंसपेक्टर गरीबो को दिए जाने वाले अनाज में हेरा फेरी कर 30 किलों ग्राम के बोरे में 25 किलो ग्राम अनाज भेज रहा है और जब डिपू होल्डरों और फील्ड इंस्पेक्टरों ने इसका विरोध किया तो सप्लाई इंसपेक्टर सुमित कुमार ने अपनी धौंस दिखाते हुए कहा के आप जो कर सकते है कर लो फील्ड इंस्पेक्टरों ने अपने उच्च अधिकारियों को शिकायत देकर इस पर कारवाई करने की मांग की है
जानकारी देते हुए फूडसप्लाई विभाग के इंस्पेक्टरों और डिपू होल्डरों ने बताया कि गरीबो को दिया जाने वाला अनाज पिछले कुछ महीनों से बहुत ख़राब और कम आ रहा है उनका कहना है कि फूडसप्लाई विभाग एक सप्लाई इंसपेक्टर सुमित कुमार 30 किलोग्राम के बोरे में 25 किलोग्राम अनाज भेज रहा है और अनाज भी खाने लायक नहीं है जब इसके बारे में सप्लाई इंसपेक्टर सुमित कुमार से बात की तो उसने धौंस दिखाते हुए कहा के अनाज ऐसे ही मिलेगा
जिसको शिकायत करनी है कर दो और फील्ड इंसपेक्टर रंजिदर कुमार के साथ गाली गलौच भी किया जिससे परेशान होकर गुरदासपुर ज़िले के इंस्पेक्टरों ने अपने उच्च अधिकारियों को शिकायत भेज कर इस इंस्पेक्टर पर सख्त कारवाई करने की मांग की है उनका कहना है कि इस इंस्पेक्टर पर पहले भी विभाग में घपलेबाजी करने के कई मामले में दर्ज है और यह कई बार सस्पेंड भी हो चुका है इसके बावजूद भी इसे विभाग में सप्लाई इंसपेक्टर लगाया गया है
वही इस मामले की जानकारी देते हुए जी.ए रमन कोछड़ ने बताया कि उन्हें शिकायत मिली है के सुमित कुमार नाम का इंस्पेक्टर गरीबों को दिए जाने वाले अनाज में हेरा फेरी कर रहा है मैंने भी जांच की थी जो बोरे इसने डीपुयों में भेजे थे उसमें 30 किलोग्राम की बजाए 25 किलोग्राम अनाज था मैंने रिपोर्ट बनाकर ऊपर उच्च अधिकारियों को भेज दी है बनती कारवाई की जाएगी जी.ए रमन कोछड़ ने भी इस बात को माना के इस पर पहले भी कई मामले चल रहे है और इससे सस्पेंड भी किया गया था लेकिन पता नही विभाग ने इसे सप्लाई इंसपेक्टर किऊ लगाया है