Connect with us

देश

बिहार चुनाव 2020 : राजनीतिक पार्टियां दूसरे राज्यों से आए मजदूरों को वोट का हक दिलवाने में जुटे, कर रहे हैं यह काम.?

Published

on

Bihar Election 2020

पटना 8 जून 2020 ( उमाशंकर त्रिपाठी

Advertisement
):- बिहार के विधानसभा चुनाव भले ही इस साल के अंत में होने जा रहे हैं. लेकिन इसकी तैयारियां अभी से शुरू कर दी गई हैं. बिहार में चुनाव की तैयारियों में राजनीतिक दलों से लेकर चुनाव आयोग तक सभी इस कार्य में जुड़ चुके हैं. बिहार में अभी तक कोई मतदाता ना छूट जाए अभियान को चलाया जा रहा है | जिस अभियान के तहत राज्य के योग मतदाताओं का नाम वोटर लिस्ट में शामिल किया जा रहा है वहीं दूसरी तरफ बिहार के अंदर राजनीतिक दल भी अपने नफे नुकसान का हिसाब किताब करने में जुट चुके हैं प्रवासी को अपना वोटर बनाने के अंदर जुड़ चुके हैं |

World Oceans Day 2020 : आज है विश्व महासागरीय दिवस ,जानिए महत्व और इतिहास

लॉकडॉन के चलते दूसरे राज्यों से बिहार में भारी संख्या में मजदूर वापस लौटे हैं | सभी राजनीतिक पार्टियां अब इन वापस लौटे हुए मजदूरों का पूरा फायदा उठाना चाहती हैं | आपको बता दें कि प्रवासी मजदूर जो पहले दूसरे राज्यों के अंदर मतदान किया करते थे वहीं अब बिहार के अंदर अपने वोट का प्रयोग करना चाहते हैं तो वही सबसे पहले दूसरे राज्यों की मतदाता सूची से उन सभी मजदूरों का नाम हटवा ना होगा एक जगह से बिना नाम हटाए दूसरी जगह मतदान सूची में नाम दर्ज नहीं हो सकता। अगर ऐसा किया जाता है तो उस व्यक्ति को 1 साल की जेल और जुर्माने का प्रावधान है |

Unlock-1.0 मंदिर, मॉल, रेस्तरां आज खुले, मगर जाने से पहले यह चीजें ध्यान से पढ़ ले

बिहार के स्नातक व शिक्षक निर्वाचन को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं | जिसके चलते मतदाता सूची को दो बार नाम अंकित मतदाताओं की पहचान करने की तैयारी की जा रही है और उसके नाम को भी हटाया जाएगा। यह निर्देश पटना प्रमंडल के आयुक्त सह निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी संजय कुमार अग्रवाल ने अपनी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिलों के निर्वाचन पदाधिकारियों उप निर्वाचन, पदाधिकारियों व मंत्रिमंडल स्तरीय अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक के अंदर दिया |

इसके साथ ही आयुक्त ने 30 दिसंबर 2019 के बाद ऑनलाइन वह ऑफलाइन के माध्यम से उनको प्राप्त दावे व आपत्तियों का निष्पादन जल्द करने को भी सबको बोल दिया है | 30 दिसंबर 2019 को पटना स्नातक व पटना शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के सभी मतदाताओं की संख्या एक लाख से ज्यादा है |

पटना शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक मतदाताओं की संख्या 1,18,747 है और मतदान के लिए केंद्रों की संख्या 181 बताई जा रही है जबकि पटना से निर्वाचक के लिए मतदाताओं की संख्या 9923 बताई जा रही है और मतदान करने के लिए केंद्रों की संख्या है 80 है |

Trending