Connect with us

देश

Bihar Weather Alert: बिहार में पड़ेगी मौसम की मार अगले 72 घंटे में होगी मूसलाधार बारिश, 8 जिले रेड अलर्ट NDRF की गई तैनात.

Published

on

पटना बिहार ( उमाशंकर त्रिपाठी ):- देश में जहां गर्मी का प्रकोप दिन प्रतिदिन बढ़ता चला जा रहा है. आम लोगों को गर्मी से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है लेकिन वही बिहार के अंदर मानसून अपने शबाब पर आ चुका है. मौसम विभाग ने फिर से भारी बारिश की चेतावनी जारी (Bihar Weather Alert) की है और राज्य में 72 घंटे के लिए अलर्ट जारी कर दिया है. मौसम वैज्ञानिकों ने यह संभावना जताई है कि अगले 24 घंटों में बिहार राज्य के अंदर कम से कम 100 मिली मीटर बारिश होगी. अबतक 254 मिमी बारिश दर्ज हुई है. उसमें पिछले 22 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. जो सामान्य से 87 फ़ीसदी ज़्यादा है.

Zomato के खिलाफ अब भारत में होने लगा है प्रदर्शन, कर्मचारियों ने छोड़ दी नौकरी और जलाई कंपनी की टी-शर्ट.

राज्य के उत्तरी बिहार में जहां लगातार जबरदस्त बारिश और मध्यम बारिश से नदियों में उफान आ गया है वह खतरे के निशान के ऊपर मंडरा रही हैं. वहीं मौसम विभाग ने पश्चिमी और मध्य बिहार में भी भारी बारिश की संभावना जताई है. आप सबको बता दें कि जिन इलाकों में ज्यादा बारिश होने की संभावना मौसम विभाग की तरफ से जताई गई है. उन इलाकों में रेड अलर्ट कर दिया गया है और पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सिवान, अररिया, किशनगंज, कटिहार, सहरसा यहां भी भारी बारिश होने की संभावना जताई गई है. हालांकि राजधानी पटना के लिए 4 दिन फिलहाल राहत भरे रहेंगे. मौसम विभाग ने हल्की और मध्यम बारिश का पूर्व अनुमान पटना के अंदर जताया है.

बिहार मौसम विभाग के अलर्ट को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी जिला अधिकारियों को अलर्ट रहने के निर्देश जारी कर दिए हैं. साथ ही सभी नदियों के बांध पर चौकसी को बढ़ा दिया गया है. नेपाल से सटे 12 जिलों के अंदर (NDRF) एनडीआरफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं. इस पूरे प्रबंध के अंदर छोटे और बड़े नाव का प्रबंध भी प्रशासन की तरफ से किया गया है वहीं आपदा प्रबंधन विभाग खुद सभी जिलों के अंदर मॉनिटरिंग कर रहा है और बतौर कंट्रोल रूम भी यहां स्थापित कर दिए गए हैं.

भारत में कोरोनावायरस का कहर,8 राज्यों का है सबसे बुरा हाल, 87% मौतें और 85% हो चुके हैं केस.

आपको बता दें कि हर साल बिहार के अंदर बारिश के दिनों में भीषण बाढ़ आ जाती है. जिससे बिहार के अंदर काफी नुकसान होता है और इसीलिए लोगों की जान और नुकसान दोनों को बचाने के लिए प्रशासन ने पूरे प्रबंध कर लिए हैं.

बिहार के कोसी, सीमांचल इलाकों के अंदर बिहार सरकार की खास निगरानी है. क्योंकि नेपाल के साथ सटे सभी इलाकों के अंदर भारी बारिश की वजह से नदियों के अंदर खतरा बना हुआ वह खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. (IMD) आईएमडी की मानें तो राज्य में अभी 30 जून तक मानसून पूरी तरह से सक्रिय रहेगा ऐसे में मध्यम और भारी बारिश पूरी तरह से ऐसे में पूरे राज्य के अंदर मध्य बारिश और तेज बारिश होने की संभावना बनी हुई है.

thestatusraja

Trending