Connect with us

देश

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मास्को के अंदर चीनी रक्षा मंत्री से नहीं मिले, भारतीय रक्षा मंत्रालय ने दिया साफ संकेत

Published

on

Defense Minister Rajnath Singh
Photo : Rajnath Singh (Twitter)

नई दिल्ली 24 जून 2020 ( Parmjeet Bhakna):- भारत और चीन के मीडिया ने उस रिपोर्ट को सिरे से खारिज कर दिया है. जिसके अंदर यह बात कही गई थी कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मास्को में चीनी रक्षामंत्री वेई फेंगे के साथ मिले हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मास्को के अंदर सैन्य परेड के इतर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और चीन के समक्ष कार्य होगा के बीच कोई द्विपक्षीय बैठक नहीं हुई है.

Advertisement

चीन और रूस के साथ बैठक में भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर की हुई मीटिंग,जानिए क्या हुई बातें

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वितीय विश्व युद्ध के अंदर जिम जर्मनी पर सोवियत जीत की 75 वीं वर्षगांठ के मौके पर बुधवार के दिन सैन्य परेड के अंदर शामिल होने के लिए तीन दिवसीय दौरे पर मास्को के अंदर गए हुए हैं. चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंगे के भी परेड में हिस्सा लेने की संभावना बताई गई है. इसके बीच चीनी मीडिया का एक खबर जिसके अंदर यह कहा गया है कि वेई फेंगे और भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मास्को के एक कार्यक्रम के अंदर हिस्सा ले रहे हैं और पूर्व लद्दाख के अंदर सीमा तनाव को लेकर दोनों देशों के अंदर मुलाकात होगी.

दिल्ली के पाक उच्चायोग मैं जासूसी करने के कारण कर्मचारियों मैं 50% की कटौती करने का आदेश

चीनी मीडिया की खबर के बारे में पूछे जाने पर रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता भारत भूषण बाबू ने मीडिया को बताया कि हमारे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंगे के साथ बैठक बिल्कुल भी नहीं करेंगे. रक्षा मंत्री का रूस का दौरा ऐसे टाइम पर निकल कर आया है. जब भारत और चीन के दरमियान सीमा पर भारी तनाव है. अधिकारियों ने यह भी बताया कि चीन के साथ सीमा पर गतिरोध चल रहा है लेकिन राजनाथ सिंह रूस के साथ भारत के दशकों पुराने सैन्य संबंधों के कारण यह दौरा करने के लिए गए हुए हैं.

राहुल गांधी ने ट्वीट कर पूछा हमारी जमीन लेने वाला,सैनिकों को मारने वाला क्यों चीन कर रहा है मोदी की तारीख ?

आपको बता दें लद्दाख के अंदर भारत और चाइना की फौजियों में कुछ झड़पें हुई जिसके अंदर भारत के 20 जवान शहीद हो गए और चाइना के 65 फौजी मारे जा चुके हैं. मीडिया में आ रही रिपोर्टों में यह भी बताया जा रहा है कि सेना के बड़े अधिकारियों की मीटिंग इस वक्त बॉर्डर पर चल रही है.

यह Ummed भी जताई जा बहुत जल्दी भारत और चीन की सेना विवादित क्षेत्र से पीछे हट जाएंगे. लेकिन भारत को के रक्षा विशेषज्ञ की मानें तो उन्होंने कहा है कि चीन हर बार धोखे की चाल चलता है. इसलिए सेना को फिर भी तैयार रहना चाहिए.

Trending