Connect with us

देश

भारतीय सेना का बड़ा बयान, बहादुर जवानों का शहादत बेकार नहीं जाएगा जल्द लिया जाएगा, यह फैसला.?

Published

on

Indian Army issued this statement
photo : Social Media

नई दिल्ली 18 जून 2020 भारत और चीनी बॉर्डर के ऊपर कुछ दिन पहले बड़े तनाव के चलते सोमवार रात को हुए हमले में भारत के 20 जवान शहीद हो गए गलवन घाटी में चीनी सैनिकों की यह शर्मनाक करतूत पूरी दुनिया ने देखी. भारतीय सेना के 20 सैनिकों की शहादत के बाद अब सेना का बड़ा बयान निकल कर आया.

देश के जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा – पीएम मोदी

भारतीय सेना ने अपने आधिकारिक बयान में यह बात कही है कि बहादुर जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा. भारतीय सेना देश की संप्रभुता और अखंडता की रक्षा के लिए अपने संकल्प के ऊपर मजबूती के साथ खड़ी है. सेना प्रमुख एम एस नरवाने समेत पूरी सेना अपने बहादुर सैनिकों के सर्वोच्च बलिदान को शत शत प्रणाम करते हैं. हम शहीद जवानों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना दिल से व्यक्त करते हैं.

चीनी सेना को भारतीय सीमा से पीछे खदेड़ने वाले, जांबाज कर्नल संतोष बाबू ,जिन्होंने बहादुरी के साथ यह काम पहले किया

इससे पहले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने बयान में कहा कि मैं देश को यकीन दिलाना चाहता हूं कि हमारे देश के इन जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. हम सबके लिए भारत की अखंडता और संप्रभुता सर्वोच्च है और भारत देश की रक्षा करने से हमें कोई नहीं रोक सकता. हर मौके पर हमने अपनी अखंडता और सफलता के लिए अपने अपने शौर्य का प्रदर्शन किया. भारत ने चीन को कड़ा संदेश देते हुए यह बात यही है कि हम शांति चाहते हैं लेकिन उकसाने पर माकूल जवाब देने के लिए भी पूरी तरह से तैयार है. इस बारे में किसी को भी जरा सभीभम्र या संदेह नहीं होना चाहिए.

भारत-चाइना बॉर्डर पर कर्नल समेत 2 जवान शहीद, कार्रवाई में चीन के 3 से 5 जवान मारे जाने की खबर, रक्षा मंत्री की आपातकालीन बैठक

भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों को गंवाना बहुत दुख की बात है. भारतीय जवानों कर्तव्य का पालन करते हुए अदम्य साहस एवं वीरता का प्रदर्शन किया और अपनी शहादत भारत माता के नाम दे दी. देश अपने सैनिकों की बहादुरी और उनके बलिदान को कभी भी नहीं भूलेगा.

वहीं दूसरी तरफ भारतीय विदेश मंत्रालय ने चीन को सख्त संदेश देते हुए यह बात कही है. कि गलवन में जो हुआ यह चीन द्वारा आयोजित और योजनाबद्ध ढंग से की गई कार्रवाई है. चीन इन सभी घटनाओं के लिए जिम्मेवार है.

आपको बता दें कि गलवन घाटी के अंदर सोमवार रात को चीनी सैनिकों के साथ भारतीय सैनिकों की हिंसक झड़प हुई. जिसमें एक कर्नल समेत 20 सैनिक शहीद हो गए. बीते पांच दशक से भी ज्यादा समय उन्हें दोनों देशों के बीच यह अब तक का सबसे बड़ा सैन्य टकराव है. इस बात से दोनों देशों के बीच तनाव जबरदस्त बढ़ चुका है.

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मसले पर चर्चा करने के लिए 19 जून को सर्वदलीय डिजिटल बैठक बुलाने की बात कही है जो 19 जून को अपराह्न 5:00 बजे शुरू की जाएगी. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यालय के मुताबिक इस बैठक के अंदर कई राजनीतिक दलों के अध्यक्ष शामिल होंगे.

Trending