Connect with us

देश

विकास दुबे ग्रेटर नोएडा में नजर आया, कैसे भागा फरीदाबाद पढ़िए पूरी स्टोरी.

Published

on

Kanpur Encounter Vikas Dubey-min
Photo : social Media

नोएडा ( उमाशंकर त्रिपाठी ):- कानपुर के एनकाउंटर के बाद फरार हुए विकास दुबे के दिल्ली एनसीआर क्षेत्र के अंदर देखें जाने के बाद अब मीडिया में कहीं जा रही है. ग्रेटर नोएडा वेस्ट की एक मूर्ति गोल चक्कर से वहां सेक्टर 71 की तरफ जा रहे ऑटो में सवार एक व्यक्ति ने पुलिस वालों को बताया कि ऑटो में वह सवार था, उसमें विकास दुबे था. यह खबर बाहर आने के बाद पुलिस पूरी तरह से अलर्ट हुई एवं सूचना देने वाले व्यक्ति से पूछताछ कर रही है. हालांकि विकास दुबे को लेकर कोई जानकारी अभी तक पुलिस के पास नहीं है. जिस व्यक्ति ने यह दावा किया है वह मूल रूप से हरदोई का रहने वाला है. एवं यहां गढ़ी चौखंडी में रहता है. पुलिस ने सूचना मिलने के बाद पूरे इलाके के अंदर चौकसी बढ़ा दी है.

Advertisement

कश्मीर में बीजेपी नेता वसीम बारी की मौत पर PM Modi ने गहरा दुख जताया, बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

इससे पहले विकास दुबे को फरीदाबाद के एक होटल के अंदर भी देखा गया था. उसके बाद विकास दुबे के मुख्य साथी सहित दो अन्य आरोपियों को पुलिस ने फरीदाबाद से दबोचा 7 जुलाई को क्राइम ब्रांच फरीदाबाद को एक गुप्त सूचना मिली. जिसके बाद विकास दुबे के कुछ सहयोगी हथियार सहित शहर में न्यू इंदिरा नगर कंपलेक्स हरि नगर नहर पार एरिया के अंदर छुपे हुए हैं. यह पूरी सूचना गुप्त पुलिस के आला अधिकारियों के पास पहुंच गई.

मोदी सरकार ने कैबिनेट में लिए बड़े फैसले मुफ्त अनाज, मजदूरों को किराए पर घर और दूसरी सुविधाएं देने का ऐलान किया

डीसीपी क्राइम मकसूद अहमद (DCP Crime Maqsood Ahmad,) की देखरेख के अंदर एसीपी क्राइम अनिल यादव (ACP Crime Anil Yadav ) ने क्राइम ब्रांच 48, क्राइम ब्रांच गांव और क्राइम ब्रांच बीपीटीपी की 3 खास टीमों के साथ इस सूचना के आधार पर नहर पार एरिया के अंदर बड़ी रेड की रेड के दौरान एक घर में छुपे हुए बदमाशों ने पुलिस के ऊपर अंधाधुन फायरिंग कर वहां से भागने की कोशिश की लेकिन क्राइम ब्रांच की टीम की जबरदस्त घेराबंदी और सतर्कता के चलते आरोपी मौके से फरार नहीं हो पाई और पुलिस ने सब को गिरफ्तार कर लिया. जिनकी पहचान करते कार्तिकेय उर्फ प्रभात, अंकुर और श्रवण के तौर पर की गई है.

कानपुर शूटआउट का छठा दिन: विकास दुबे का खास अमर दुबे पुलिस एनकाउंटर में मारा गया, विकास का साला ज्ञानेंद्र शहडोल के अंदर पकड़ा गया

डीसीपी क्राइम मकसूद अहमद ने मीडिया में बताया कि 3 आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने टीम पर फायरिंग करने वह अवैध हथियार रखने सहित आईपीसी की संबंधित धाराओं के अंतर्गत पुलिस थाना खेड़ी पुल के अंदर मुकदमे को दर्ज कर लिया गया है. प्रभात को आरोपी अंकुर और उसके पिता श्रवण ने अपने घर के अंदर पनाह दी थी.

चीन हुआ सख्त तिब्बत के मामले पर, अमेरिकी ऑफिसरो को अब नहीं देगा वीजा.

पुलिस पूछताछ के दौरान बदमाश प्रभात ने यह बात बताई है कि उसने और विकास दुबे ने विकास की भाभी की मौसी शांति मिश्रा के घर नहर पार हरी नगर इंदिरा कंपलेक्स के अंदर बना ली थी. विकास दुबे पुलिस पार्टी के आने से कुछ घंटे पहले उस जगह को छोड़कर फरार हो गया गया था. प्रभात ने पुलिस पूछताछ में यह बात भी बताई है कि विकास दुबे के साथ बिखरू गांव में हुए हत्याकांड में पुलिस पार्टी पर फायरिंग करने में वह शामिल था.

प्रभात उर्फ कार्तिकेय यह बात भी बताई है. कि विकास दुबे और वह पुलिस पार्टी पर हमला करके घायल पुलिस वालों की दो पिस्टल और जिंदा राउंड गोलियां छीन कर वहां से फरार भी हो गया था. वहां से फरार होने के बाद 2 दिन तक दोस्त के घर यूपी के शिवाली में रहने लगा. प्रभात ने पुलिस पूछताछ में यह भी बताया कि पुलिस पार्टी पर हमला करने वाला मुख्य आरोपी अमर दुबे भी था. अमर दुबे बीती रात हमीरपुर के अंदर पुलिस एनकाउंटर के अंदर मारा गया है.

अंकुर और श्रवण को बदमाशों को पनाह देने के आरोप के अंदर जेल में भेज दिया गया है. वहीं विकास दुबे के मुख्य सहयोगी कार्तिकेय को अदालत द्वारा उत्तर प्रदेश पुलिस की मांग पर ट्रांजिट रिमांड पर उत्तर प्रदेश एसटीएफ के हवाले कर दिया गया है.

Trending