Connect with us

देश

करतारपुर कॉरिडोर बंद, लेकिन करतारपुर दर्शनीय स्थल संगत के लिए खोला गया

Published

on

Kartarpur Corridor Closed
Photo : social Media

Dera Baba Nanak ( Parmjeet Bhakna

Advertisement
)क्रोना महामारी के चलते लाकडाऊन के दौरान मार्च महीने में जिला गुरदासपुर के सरहदी कस्बा डेरा बाबा नानक में हिन्द पाक सरहद पर बने करतारपुर कॉरिडोर और करतारपुर दर्शनीय स्थल को बन्द र्कर दिए गया था.करतारपुर कोरिडोर तो अभी के बन्द है लेकिन सरकार के दुआरा करतारपुर दर्शनीय स्थल को गुरु नानक नाम लेवा संगत के लिए खोल दिया गया है. दर्शनीय स्थल से श्रद्धालु दूरबीन के जरिये दूर से पाकिस्तान में मज़ूद गुरद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन कर लेते थे.

अयोध्या राम मंदिर पूजन के लिए PM मोदी को 3 और 5 अगस्त को बुलावा

फिलहाल सरकार के वायदे के अनुसार दर्शनीय स्थल की नई इमारत बनाई जा रही है लेकिन दर्शनीय स्थल संगत के लिए खोल देने से संगत में खुशी की लहर दिखाइ दे रही है.दर्शनीय स्थल से गुरद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन करने पहुंची संगत ने दर्शनीय स्थल खोल देने को लेकर सरकार का धन्यवाद किया वही उनका कहना था के जब तक दर्शनीय स्थल की नई इमारत बन रही है. तब तक इसी स्थान पर दूरबीन लगा देनी चाहिए तांकि संगत आसानी से दर्शनीय स्थल से दर्शन कर पाए वही संगत का कहना था के सरकार ने जैसे सभी कारोबार, धार्मिक स्थान और करतारपुर दर्शनीय स्थल खोल दिये है वैसे ही अब करतारपुर कॉरिडोर भी संगत के लिए खोल देना चाहिए.

IPL के फैंस के लिए खुशखबरी,आईपीएल आयोजन करवाने के लिए UAE तैयार

आपको यह भी बता देंगे कोरोना वायरस के चलते जहां पूरी दुनिया में लॉकडाउन हुआ वहीं भारत के अंदर भी इसका असर देखने को मिला. पंजाब सरकार की तरफ से प्रदेश के अंदर सबसे पहले कर्फ्यू लगाया गया. उसके बाद लॉकडाउन की प्रक्रिया शुरू की गई जिसके चलते पंजाब के अंदर धीरे-धीरे सभी धार्मिक स्थल खोलने शुरू किए गए. मगर करतारपुर कॉरिडोर को लेकर पंजाब सरकार ने इसका फैसला केंद्र सरकार के ऊपर छोड़ दिया है. वहीं पाकिस्तान सरकार इस कॉरिडोर को खोलने के हक में है. उनका मानना है कि पाकिस्तान में स्थिति सामान्य है और सिख श्रद्धालुओं के लिए यह धार्मिक स्थल खोला जा सकता है.

मगर देश केंद्रीय सरकार ने अभी करतारपुर कॉरिडोर को खोलने को लेकर कोई भी निर्णय नहीं लिया है. लेकिन कुछ दिन पहले करतारपुर कॉरिडोर के ऊपर रेत से भरी बोरियां लगाकर उसको पूरी तरह से बंद कर दिया गया था क्योंकि पाकिस्तान की तरफ से बाढ़ की आशंका है. जिसके चलते उसका असर इस कॉरिडोर के ऊपर पड़ सकता है और अब उम्मीद जताई जा रही है कि जल्दी इधर दर्शनीय स्थल यह दर्शनीय स्थल खोल दिया जाएगा.

Trending