Connect with us

देश

लालू यादव के बेटे तेज प्रताप यादव हो सकते हैं राजद से एमएलसी के उम्मीदवार, कौन है मैदान में जानिए

Published

on

Lalu Yadav's son
Photo : Tej Pratap Yadav Twitter

पटना बिहार ( उमाशंकर त्रिपाठी ) 18 जून 2020:- बिहार की प्रमुख पार्टी राष्ट्रीय जनता दल जिस के संयोजक लालू प्रसाद यादव इन दिनों जेल में सजा काट रहे हैं. लेकिन इसी बीच बिहार की सियासत में एक बड़ा बयान यह सुनने को मिल रहा है कि राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू यादव के बड़े बेटे पूर्व मंत्री व महुआ के विधायक तेज प्रताप यादव राष्ट्रीय जनता दल की ओर से विधानसभा परिषद चुनाव के अंदर उम्मीदवार हो सकते हैं.

Advertisement

भारतीय सेना का बड़ा बयान, बहादुर जवानों का शहादत बेकार नहीं जाएगा जल्द लिया जाएगा, यह फैसला.?

दूसरे और तीसरे उम्मीदवार के लिए अति पिछड़ा और अल्पसंख्यक कोटे से किसी और नेता की दावेदारी पर मुहर लग सकती है ऐसे में अगर कोई सीट सवर्ण को गया तो राजपूत वर्ग की भी दावेदारी यहां मजबूत हो सकती है. क्योंकि ए डी सिंह और राज्यसभा में भेजकर पार्टी में भूमिहार जाति को प्रतिनिधित्व दे दिया है.

विधान परिषद के 9 सीटों के लिए हो रहे चुनाव में विपक्ष को काफी बड़ा लाभ होगा जिन 9 सीटों पर चुनाव होगा. वह सभी जनता दल यूनाइटेड और भारतीय जनता पार्टी के कोटे में शामिल हैं लेकिन विधान मंडल सदस्यों की संख्या के हिसाब से इस बार 3 सीटें राष्ट्रीय जनता दल को मिलना है और दूसरी बड़ी बात यह है कि कांग्रेस के खाते में भी एक सीट जाएगी. शेष 5 में से 3 जनता दल यूनाइटेड और भारतीय जनता दल के खाते में जाएंगी.

Bihar Election 2020 : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज सत्तारघाट पुल का किया उद्घाटन

राष्ट्रीय जनता दल को 3 सीट मिलेंगी. उनके लिए उम्मीदवारों के ऊपर विचार चर्चा पूरी तरह से तेज हो चुकी है अंतिम रूप देने के लिए थोड़ा वक्त जरूर लगेगा. लेकिन निकल रही खबरों पर यकीन किया जाए तो एक सीट तेज प्रताप यादव के लिए यहां तय है.

तेज प्रताप यादव इस बार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे. दूसरी सीट अति पिछड़ा वर्ग के कोटे में जा सकती है. अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष रामबली सिंह चंद्रवंशी का नाम इस लिस्ट में सबसे पहली कतार में है. इस वर्ष से अति पिछड़ा तीसरी सीट अगर अल्पसंख्यक समाज के खाते में जाती है तो शिवहर से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले फैसल अली की दावेदारी यहां काफी मजबूत मानी जा रही है.

तीसरी सीट के लिए राजपूत उम्मीदवार बनाने की चर्चाओं का बाजार पूरी तरह से गर्म है अगर इस समाज में से किसी को मिलवा बनाया जाता है तो प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह और बिस्कोमान के अध्यक्ष सुनील सिंह इस सीट के ऊपर उम्मीदवार घोषित किए जा सकते हैं हालांकि सुनील सिंह ने कभी संसदीय राजनीति में अपनी रुचि नहीं दिखाई है लेकिन पार्टी के साथ काफी लंबे अरसे से जुड़े हुए हैं और मजबूती के साथ पार्टी के लिए काम कर रहे हैं.

बिहार की सियासत में लालू प्रसाद यादव के परिवार के लोग अपने हाथ में बिहार की सियासत की चाबी अपने हाथ में लेने के लिए दिन रात एक कर रहे हैं. वही आपको बता दें कि लालू प्रसाद यादव इन दिनों जेल में सजा काट रहे हैं लेकिन उनका स्वास्थ्य ठीक ना होने की वजह से उनको काफी लंबे वक्त से हॉस्पिटल में ही भर्ती करवाया गया जहां पर उनकी सजा पूरी हो रही. बिहार के अंदर बहुत जल्दी विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. जिसके मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी ने अभी से अपने प्रचार का प्रसार शुरू कर दिया है. जिसके चलते पिछले दिनों गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी रैलियों का आयोजन किया.

Trending