Connect with us

देश

पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों की गुमशुदगी, भारत ने कड़े शब्दों में दी चेतावनी

Published

on

Missing officers of Indian High Commission
Photo : Facebook :- Pakistan High Commission New Delhi

नई दिल्ली 15 जून 2020):- पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग से दो कर्मचारी लापता है. जिसके चलते भारत और पाकिस्तान के बीच एक बार फिर से तनाव बढ़ता जा रहा है. इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग के दो अधिकारियों की गुमशुदगी पर भारत ने अपना सख्त रुख अपनाया है. केंद्र सरकार ने नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के डिप्लोमेट को बुलाकर फटकार लगाई है.

आज से मुंबई में ट्रेन सेवा की शुरुआत,जाने ट्रेन में सफर करने के नियम

सूत्रों की मानें तो भारतीय विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान से इन भारतीय अधिकारियों का फॉरेन पता लगाना और तुरंत सकुशल रिहा करने की को कहा है. भारत ने पाकिस्तान से सख्त शब्दों में कहा है कि इस्लामाबाद में भारतीय अधिकारियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है और ऐसी हरकतें बिल्कुल भी सहन नहीं की जाएंगी जैसी हो रही है.

यही नहीं इस्लामाबाद स्थित भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के समक्ष इस बात को भी उठाया है. पाकिस्तान से अधिकारियों का और पता लगाने को कहा गया है. भारत ने पाकिस्तान से यह भी साफ कह दिया है कि वह भारतीय अधिकारियों से किसी तरह की पूछताछ बिल्कुल ना करें और ना ही उनको गिरफ्तार किया जाए.
भारतीय अधिकारियों को परेशान नहीं किया जाना चाहिए .

आप सब को यह भी बता दें कि इस्लामाबाद के अंदर भारतीय उच्चायोग के दो अधिकारी सुबह एक वाहन पर आधिकारिक ड्यूटी के लिए उच्चायोग जाने के लिए सुबह करीब 8:30 बजे घर से निकले थे. लेकिन वह उच्चायोग नहीं पहुंच पाए इस बारे में जैसे ही पता चला पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के समक्ष इस बात की भारत ने आपत्ति जाहिर की और इस बारे में भारत ने अपनी रिपोर्ट भी भेज दी है.

भारत के द्वारा पाकिस्तान उच्चायोग के दो अधिकारियों को जासूसी के आरोप के अंदर निलंबित किया किए जाने के 2 हफ्तों के बाद यह बड़ी घटना घट गई है. बीते दिनों में पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अधिकारी आबिद हुसैन और मोहम्मद ताहिर को दिल्ली पुलिस ने उस वक्त गिरफ्तार किया था जब वह पैसों के बदले एक भारतीय नागरिक से

भारतीय सुरक्षा प्रतिष्ठानों के बारे में संवेदनशील दस्तावेज हासिल कर रहे थे. भारत सरकार ने उन सब पर बैन लगाते हुए उनकी सभी गतिविधियों को राजनयिक मिशन के एक सदस्य के तौर पर गैरकानूनी और भारत देश के खिलाफ माना था. हाल ही के दिनों में पाकिस्तान के वरिष्ठ भारतीय राजनयिक गौरव आहलूवालिया की कार का पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के एक सदस्य द्वारा पीछा किए जाने का भी वाक्य निकल कर सबके सामने आया था. समाचार एजेंसी की रिपोर्ट यह बताती है गौरव आहलूवालिया पर नजर रखने के लिए उनके आवास के बाहर कई कारें और बाइक का जमावड़ा लगा रहता था.

इस पूरी रिपोर्ट के अंदर यह भी बताया गया है कि आई एस आई के जासूस हर वक्त भारतीय राजनयिक पर हर वक्त नजरें बनाकर रखते थे. यही नहीं समाचार एजेंसी ने इस घटना का एक वीडियो भी सबके लिए जारी किया था. राजनयिक की कार का पीछा किए जाने पर भारत ने पाकिस्तान के सामने कड़ी नाराजगी जाहिर की थी. भारत ने पाकिस्तान को कहा था कि इस मामले में तत्काल जांच की जाए

Trending