Connect with us

देश

राज्यसभा चुनाव : कांग्रेस पार्टी में भी लग सकता है, इस चक्रव्यूह के अंदर फंस सकती है.?

Published

on

Rajya Sabha elections
Photo :social Media

नई दिल्ली 16 जून 2020 ( परमजीत सिंह

Advertisement
):- देश में कोरोनावायरस की महामारी चारों तरफ फैली हुई है.. जिसके चलते सब कुछ बंद पड़ा है और देश की सियासत भी कोरोनावायरस से नहीं बच पाई. कोरोनावायरस संक्रमण रोकने के लिए लॉकडाउन से लेकर कांग्रेस सरकार को चारों तरफ से घेर रही है. कांग्रेस पार्टी का देश की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधना जायज भी है वह इसलिए लॉकडाउन की राजनीतिक कीमत पार्टी को चुकानी पड़ सकती है. लॉकडाउन की वजह से राज्यसभा चुनाव चलने के कारण कई राज्यों के अंदर सियासी समीकरण अब पूरी तरह से बदल जाएंगे. कांग्रेस पार्टी को नई राज सभा चुनाव में हार का सामना भी करना पड़ सकता है. जिस का खतरा कांग्रेस पार्टी के अंदर लगातार बढ़ता चला जा रहा है.

दिग्विजय सिंह ने शिवराज सिंह चौहान का ऐसा वीडियो शेयर किया, कि दर्ज हो गया यह मामला

गुजरात के अंदर 4 सीटों के ऊपर पांच उम्मीदवार मैदान में उतारे गए हैं राज्यसभा के लिए कांग्रेस ने दो और भारतीय जनता पार्टी ने तीन मैदान तीन उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं. पिछले दिनों पार्टी के विधायकों द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद आप पार्टी के पास सिर्फ 65 विधायक हैं. कांग्रेस पार्टी को भारतीय ट्राइबल पार्टी, एनसीपी, जिग्नेश मेवानी की वोट का भरोसा है पर इस पूरे समर्थन के बाद भी कांग्रेस पार्टी को जीत के लिए 1 वोट की जरूरत है. ऐसे में पार्टी चुनाव प्रबंध पर पूरा जोर दे रही है ताकि 2017 के चुनाव की तरह इस चुनाव के अंदर भी अपनी जीत को दर्ज कर सके.

अमित शाह का केजरीवाल सरकार पर बड़ा हमला, कोरोना को दिल्ली से खत्म करने के लिए अब यह काम होगा.?

मध्य प्रदेश के अंदर भी 3 सीटों पर 4 उम्मीदवार हैं कांग्रेस पार्टी पहले ही साफ कर चुकी है कि दिग्विजय सिंह पहले और फूल सिंह बरैया दूसरे उम्मीदवार रहेंगे. ऐसे में दिग्विजय सिंह की जीत पूरी तरह से है. पर बरैया के चुनाव फंस सकता है। पार्टी की नजर बसपा के दो और समाजवादी पार्टी का एक चार निर्दलीय विधायकों पर है. कांग्रेस पार्टी को इनका समर्थन मिल गया तो उनकी पार्टी की जीत हो सकती है. लेकिन कुछ विधायकों की उनको जरूरत रहेगी मौजूदा राजनीति समीकरण के अंदर कांग्रेस पार्टी के लिए समर्थन जुटाना काफी मुश्किल हुआ पड़ा है.

राजस्थान के अंदर कांग्रेस पार्टी के केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी को पार्टी की तरफ से उम्मीदवार बनाया गया है कांग्रेस पार्टी के पास 107 विधायक हैं. इसके साथ पार्टी को 12 निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल है. राज्यसभा की एक सीट के लिए 51 प्रथम वरीयता विधायकों की बहुत ज्यादा जरूरत है. ऐसे में अगर इन सभी आंकड़ों के साथ कांग्रेस पार्टी के लिए 2 सीटें जितनी भी बड़ी मुश्किल है पर कांग्रेस पार्टी को यह भी डर है कि विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की और निर्दलीय विधायकों ने पाला बदल लिया तो पार्टी के लिए बहुत ज्यादा बड़ी मुश्किलें खड़ी हो जाएगी. इसके लिए पार्टी ने अपने सभी विधायक को और निर्दलीय MLA’s को होटल में रखने का फैसला कर लिया है

झारखंड की बात करें तो कांग्रेस के राज्यसभा उम्मीदवार की किस्मत साथ देती बिल्कुल नजर नहीं आ रही है. निर्दलीय विधायक सरयू राय के समर्थन के बाद भारतीय जनता पार्टी का पलड़ा भारी दिखता नजर आ रहा है. पार्टी के एक नेता ने यहां तक कहा कि लॉकडाउन की वजह से राज्यसभा चुनाव नहीं चलता तो इन राज्यों के अंदर राज्यसभा चुनाव के लिए समीकरण नहीं बदलते क्योंकि उस वक्त कांग्रेस के पास अपनी जीत को सुनिश्चित करने के लिए प्राप्त आंकड़े थे. तो कांग्रेस पार्टी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है अब देखना होगा कि कोरोनावायरस ने जैसे देश को परेशान कर रखा है. वैसे ही ठीक कांग्रेस पार्टी की हालत बनती जा रही है.

Trending