Connect with us

देश

Solar eclipse or Surya grahan 2020: सूर्य ग्रहण 21 जून को, आपने किन बातों का रखना है ख्याल,कौन से नियमों की करनी है पालना .?

Published

on

Surya grahan 2020
photo social media

नई दिल्ली 17 जून 2020 (Parmjeet Bhakna

Advertisement
):-इस साल का सबसे बड़ा और खास दिन 21 जून होगा. क्योंकि 21 जून को दुर्लभ खगोलीय घटना घटने वाली है. यानी रविवार आषाढ़ अमावस्या को वलयाकार सूर्य ग्रहण लगने वाला है. इसे कंकणाकार ग्रहण भी कहा जाता है. यह सूर्य ग्रहण देश के कुछ खास भागों से पूर्ण रूप से दिखाई देगा.

इस सूर्य ग्रहण खास बात यह है कि यह सूर्य ग्रहण 2002 साल का पहला सूर्य ग्रहण होगा. इस बड़ी खगोलीय घटना के होने में आज सिर्फ 4 दिन शेष बच गए हैं. यानी अगले सप्ताह रविवार के दिन आषाढ़ अमावस्या के दिन यह ग्रहण आ रहा है. यह सूर्य ग्रहण 21 जून को भारत में के अधिकांश इलाकों के अंदर साफ तौर पर देखा जा सकेगा.

मोदी सरकार 2000 की छठी किस्त भेजने को तैयार, इस संदेश को पढ़ने के बाद जल्दी से कीजिए… यह काम

ज्योतिष शास्त्रियों के अनुसार यह दिन बहुत खास रहेगा 21 जून को सूर्य ग्रहण दिन में 9:16 के प्रारंभ हो जाएगा. जिसका चरम दोपहर 12:10 तक रहेगा. मोक्ष दोपहर में 3:04 तक होगा.

(1):- सूतक काल ग्रहण का

सूतक काल 20 जून दिन शनिवार रात 9:15 से शुरू हो जाएंगे. इसी के साथ शहर के मठ मंदिर के द्वार बंद हो जाएंगे. अपने प्यारे पाठकों को यह बता दें कि ज्योतिष शास्त्री ग्रहण के 12 घंटे पहले और 12 घंटे बाद तक के टाइम को सूतक काल कहा जाता है.

(2):-वलयाकार

आपको बता दें कि सूर्य ग्रहण की स्थिति वलयाकार रहेगी. जब हम देखेंगे तो इसमें यह ना पूर्ण होगी, ना ही आंशिक होगी. प्रयागराज में सूर्य ग्रहण 78% ही लोगों को दिखाई देता है. हरियाणा के अंदर कुरुक्षेत्र, सिरसा, राजस्थान के सूरजगढ़, देहरादून और चमोली में पूरा सूर्य ग्रहण लोगों को दिखाई देगा. इसमें यह भी कहा गया है कि चंद्रमा अपने कक्ष में अंडाकार घूमता रहता है. चंद्रमा से सूरज की दूरी अधिक होने से देखने में दोनों का आकार एक जैसा दिखाई देता है. जून 21 को सूर्य कर्क रेखा के ठीक मध्य में होगा यह साल का बहुत बड़ा दिन हो होगा.

चीनी सेना को भारतीय सीमा से पीछे खदेड़ने वाले, जांबाज कर्नल संतोष बाबू ,जिन्होंने बहादुरी के साथ यह काम पहले किया

(3):-1995 का सूर्य ग्रहण आपको याद आएगा

जून 21 को होने वाला सूर्य ग्रहण बहुत ही खास है क्योंकि 25 साल पहले घटित हुए 24 अक्टूबर 1995 को ग्रहण की याद आपको आ जाएगी. उस दिन पूर्ण सूर्यग्रहण के चलते दिन में ही आपने देखा होगा कि अंधेरा छा गया था. पक्षी घोंसलों के अंदर वापस चले गए थे. हवा ठंडी हो गई थी. कंकणाकृति के ग्रहण के समय सूर्य किसी कंगन की भांति नजऱ आता है। पिछली बार साल 1995 के दौरान पूर्ण ग्रहण के समय बिल्कुल ऐसा ही हुआ था और हम सब लोगों ने देखा भी था.

(4):-चांद का आकार कैसा दिखेगा सूर्य होगा कैसे

ज्योतिष शास्त्री बताते हैं कि 21 जून के दिन सूर्य के वलय पर चंद्रमा का पूरा आकार आप सब लोगों को नजर आएगा. सूर्य के केंद्र का भाग पूरा काला नजर आने वाला है जबकि उसके किनारों के ऊपर उसकी चमक वैसे ही बरकरार रहेंगे. खास बात यह है कि इस तरह के सूर्य ग्रहण को विश्व के अंदर कहीं-कहीं देखा जा सकता. अधिकतर जगह लोगों को सिर्फ आंशिक ग्रहण ही नजर आता है. जब भी सूर्य ग्रहण लगा होता है तो चंद्रमा ग्रहण के साथ होता है और खास बात यह है. इसमें या तो यह दोनों चंद्रग्रहण उससे पहले होते हैं या एक चंद्र ग्रहण सूर्य ग्रहण से पहले और दूसरा सूर्य ग्रहण के बाद लोगों को नजर आता है. इस बार भी कुछ ऐसा ही होने वाला है.

(5):-किन बातों का रखना है आपने ख्याल

अपने प्यारे पाठकों को यह बता दें कि ज्योतिष शास्त्री ग्रहण के ग्रहण 12 घंटे पहले और 12 घंटे बाद तक समय को सूतक काल कहा जाता है. ज्योतिषियों की माने तो उनका कहना है कि सूर्य ग्रहण में ग्रहण लगने से ठीक 12 घंटे पहले आप सब लोगों को भोजन कर लेना चाहिए. बूढ़े, बालक, रोगी और गर्भवती महिलाएं डेढ़ प्रहर चार घंटे पहले तक भोजन खा सकते हैं. ग्रहण के बाद नया भोजन तैयार कर लेना चाहिए संभव हो सके तो आप ग्रहण के पश्चात घर में रखा पूरा पानी बदल दें.

ज्योतिषियों की मानें तो उनका कहना है कि ग्रहण के बाद पानी पूरी तरह से दूषित हो जाता है. ग्रहण के प्रभाव से खाने-पीने की वस्तुएं खाने के लायक नहीं रह जाती वह दूषित हो जाती है. इसीलिए सभी खाद्य पदार्थ एवं पीने के अंदर तुलसी का पत्ता अथवा कुश डाल दें.

जब ग्रहण लगा हुआ है तो उस वक्त जो कपड़े आपने पहने हुए हैं. उन वस्त्र आदि अशुद्ध माने जाते हैं.क्योंकि वस्त्रों को भी अशुद्ध माना जाता है.आखिर में ग्रहण को पूरा होते ही आपने जो कपड़े वस्त्र पहने हुए हैं उनके साथ ही स्नान कर लेना चाहिए. ग्रहण के 30 मिनट पूर्व गंगाजल का छिड़काव अपने घर में अपने दफ्तर में कर लेना चाहिए जिससे छिड़काव करके शुद्धिकरण कर ले.

Trending