नई दिल्ली ( उमाशंकर त्रिपाठी):- लोकसभा चुनाव के मद्देनजर जहां सभी पार्टियां अपने चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं वहीं भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस पार्टी और अन्य पार्टियां इस बात को लेकर चिंतित है कि लोकसभा चुनाव में सभी सीटों को कैसे जीता जाए और इसी बीच एक बड़ी खबर निकल कर आई है दिल्ली से जहां पर कांग्रेस की अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने एक बड़ा बयान दिया है जिसमें ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल यदि करना चाहते हैं आकर बात करें और शीला दीक्षित ने कहा कि अरविंद केजरीवाल की कांग्रेस के साथ कोई बात नहीं हुई

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और कांग्रेस के अध्यक्ष को एक चैनल को इंटरव्यू देते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी और राष्ट्रीय संयोजक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बयान की प्रतिक्रिया कांग्रेस से गठबंधन की बात करते करते थक गया हमारे साथ गठबंधन नहीं किया और यह बात अरविंद केजरीवाल ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था और केजरीवाल के बयान को सुनने के बाद शीला दीक्षित ने यह बात कही है कि अरविंद केजरीवाल की कांग्रेस पार्टी के साथ कोई बातचीत हुई नहीं उसने कहा कि मैं दिल्ली कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष हूं और मुझ से तो कभी पूछा ही नहीं और अगर कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जी से उनकी बात होती तो मुझसे जरूर बात करते हैं शीला दीक्षित ने कहा कि केजरीवाल आएगी किस से बात हुई है

अरविंद केजरीवाल आम आदमी पार्टी के संयोजक करना चाहते हैं तो सीधा करें पीछे से बंद करें दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से अब केजरीवाल आए तो आप बात करेंगे उन्होंने कहा कि अगर केजरीवाल आएंगे तो बात करेंगे क्योंकि आप ही ने बताया है कि उन्होंने कोई ऐसा बयान दिया दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राजधानी की चांदनी चौक पर जनसभा को संबोधित करते हुए बात कही थी कि गठबंधन के लिए हम कांग्रेस से बात कर कर के बुरी तरह से थक चुके हैं लेकिन कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करना चाहते और कांग्रेस पार्टी दिल्ली के अंदर उत्तर प्रदेश के अंदर भाजपा को जाना चाहती है इसीलिए वह हमारे साथ गठबंधन नहीं करना चाहती दिल्ली में बीजेपी को कांग्रेस के अंदर लोकसभा की सीटें सभा को संबोधित करते हुए थे कि कांग्रेस पार्टी को बार-बार मना रहे हैं लेकिन वह गठबंधन कर लो कर लो उनकी समझ में नहीं आ रहा आप से पूछना चाहता हूं कि गठबंधन होना चाहिए कि नहीं?’ इस जनसभा में मौजूद लोगों ने कहा, ‘होना चाहिए.’

जानकारों की माने तो पिछले हफ्ते एनसीपी प्रमुख शरद यादव के घर सभी व्यक्त विपक्षी दलों की एक बड़ी मीटिंग थी जिसके अंदर कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन को लेकर अपना रुख बिल्कुल साफ करते हुए यह बात बोली कि कांग्रेस की दिल्ली यूनिट आमआदमीपार्टी के साथ गठबंधन नहीं करना चाहती आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन बिल्कुल भी नहीं करना चाहते और उसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की बात करें तो उन्होंने चांदनी चौक एग्जाम में खड़े हम तो करना चाहते हैं गठबंधन लेकिन कांग्रेस पार्टी वाले गठबंधन नहीं करना चाहते