नई दिल्ली (करनजीत):- भारत में लोकसभा चुनाव की वोटिंग सभी राज्यों में कंप्लीट हो चुकी है लेकिन असली राजनीति अब शुरू हुई है यूपी बिहार और हरियाणा समेत कई राज्यों से ईवीएम मशीनों को लेकर अब बड़े सवाल उठने शुरू हो चुके हैं संयुक्त विपक्ष ने चुनाव आयोग की अब घेराबंदी करनी शुरू कर दी है कांग्रेस पार्टी समेत 22 विपक्षी दलों ने भारतीय चुनाव आयोग से मुलाकात कर बड़ी मांग की है की मतगणना से पहले हर विधानसभा में पांच एवं और वीवीपैट का मिलन हो यदि इसमें गलती हो तो उस विधानसभा क्षेत्र की पूरी मतगणना वीवीपैट के आधार पर की जाए

कांग्रेस में 22 विपक्षी दलों ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के साथ करीब डेढ़ घंटे की एक बड़ी मुलाकात की जिस में विपक्ष ने 6 पेज का ज्ञापन भी चुनाव आयुक्त को सौंपा और इस बैठक के बाद सभी नेताओं ने संवाददाताओं को यह बात बताई कि चुनाव आयोग ने उनकी मांगों पर खुले मन से विचार करने का आश्वासन दिया है बुधवार की सुबह आयोग इस पर आखिरी फैसला करेगा प्रतिनिधिमंडल के अंदर कांग्रेस पार्टी तृणमूल पीडीपी समाजवादी पार्टी बहुजन समाजवादी पार्टी और लालू प्रसाद यादव की राजद समेत 22 दलों के नेता यहां मौजूद है

कांग्रेस के बड़े नेता गुलाम नबी आजाद ने मीडिया को बताया कि हमने आयोग से यह बात कही है कि आप हर विधानसभा क्षेत्र में जिन पांच बूथों के बीवी अटैक की गिनती करेंगे उसे सबसे पहले कीजिए बाद में वीवीपैट पर्ची की गिनती करने का कोई फायदा नहीं है नेताओं ने कई स्थानों पर स्ट्रांग रूम से ईवीएम के कथित छेड़छाड़ की शिकायतें भी की और इसके ऊपर भी कार्रवाई करने की मांग की है आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सवाल यह किया है कि आयोग ने बार-बार शिकायतों के बाद भी अब तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं की है आखिर ऐसी क्या बात है यह आयोग का कर्तव्य है की पारदर्शिता तथा विश्वास को स्थापित किया जाए बहुजन समाजवादी पार्टी के सतीश मिश्र मिश्रा कहां है कि यूपी के सरकारी अधिकारी ने कहा कि मतगणना के दिन एआरओ टेबल पर दलों के एजेंट नहीं रहेंगे पर इस बात को लेकर भी बड़ी चिंता अब राजनीतिक दलों के माथे पर देखने को मिल रही है लेकिन मुख्य चुनाव आयुक्त ने स्पष्ट कर दिया कि इस तरह का कोई भी आदेश अभी तक जारी नहीं किया गया और उन्होंने कहा कि स्पष्टीकरण यह है कि ए आर ओ टेबल पर राजनीतिक दलों का एक एक एजेंट रहेगा इससे पहले सभी नेताओं ने बैठक कर नतीजे के बाद की स्थिति पर चर्चा की और रणनीति तैयार की है