चंडीगढ़ (उमाशंकर त्रिपाठी):- पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने कैबिनेट पद से इस्तीफा दे दिया है नवजोत सिंह सिद्धू ने 10 जून को कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी के नाम से त्याग पत्र भेजा था जिसमें सिद्धू ने ट्वीट कर सार्वजनिक तौर पर सब को बताया हालांकि मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल का कहना है कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पास अभी तक कैबिनेट मंत्री सिद्धू का कोई इस्तीफा नहीं पहुंचा और सिद्धू के इस्तीफे की जानकारी उनको मीडिया से ही पता चली है
कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने एक अन्य ट्वीट कर कहा कि वह अपना सीपा सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को सौंपेंगे
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक माह पहले सिद्धू के विभाग में बदलाव किया था नवजोत सिंह सिद्धू स्थानीय निकाय मंत्री थे कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोकसभा चुनाव के बाद अपने मंत्रिमंडल के अंदर बड़ा बदलाव करते हुए सिद्धू को ऊर्जा मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी जिसको लेकर नवजोत सिंह सिद्धू काफी नाराज थे और सिद्धू ने अभी तक ऊर्जा मंत्री के रूप में कार्यभार नहीं संभाला था
कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ नवजोत सिंह सिद्धू के रिश्तो में काफी खटास है और अपने विभाग के बदले जाने के बाद सिद्धू ने 9 जून के बाद पहली बार सोशल मीडिया पर सक्रिय होकर इस बात का खुलासा किया सिद्धू काफी दिनों से राज्य की राजनीति से पूरी तरह से गायब हैं और वह पिछले दिनों माता वैष्णो देवी के भवन में तपस्या में लीन थे
कैप्टन अमरिंदर सिंह के मंत्रिमंडल में बदलाव से दो मंत्री बहुत ज्यादा नाराज थे जिसमें नवजोत सिंह सिद्धू के इलावा ओपी सोनी भी शामिल है लेकिन ओपी सोनी ने कुछ दिनों बाद ही अपना कार्यभार संभाल लिया था लेकिन सिद्धू को लेकर शुरू से ही असम है लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के कुछ दिनों बाद ठीक कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 13 मंत्रियों के विभागों को पूरी तरह से बदल दिया इससे सबसे अधिक नाराज तत्कालीन स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और पंजाब के शिक्षा मंत्री ओपी सोनी हुए थे और बाकी के सभी मंत्रियों ने अपने नए विभाग के अंदर जिम्मेदारी को संभाल लिया था
लेकिन 1 माह से अधिक बीतने के बाद भी नवजोत सिंह सिद्धू ने कार्यभार नहीं संभाला और सिद्धू के नाराजगी सीधे तौर पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ थी
लोकसभा चुनाव से पहले ही सिद्धू का कैप्टन से टकराव था
नवजोत सिंह सिद्धू कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ पहले दिन से ही रिश्तो में खटास नजर आ रही लेकिन लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण में यह टकराव और ज्यादा बढ़ गया जब बठिंडा की रैली में नवजोत सिंह सिद्धू ने सीएम पर सीधे तौर पर निशाना साधा था तो लोकसभा चुनाव के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह को नॉन परफार्मर मिनिस्टर कहकर उन पर निशाना साधा था कैप्टन के करीबी मंत्री भी नवजोत सिंह सिद्धू के कामकाज करने के ढंग पर खासे नाराज थे
कैप्टन ने शहरों में हार के लिए सिद्धू को ठहराया जिम्मेदार
देश में हुए लोकसभा चुनाव में शहरी क्षेत्रों के अंदर कांग्रेस पार्टी को बहुत बड़ा नुकसान हुआ जिसके लिए मुख्यमंत्री ने सिद्धू को सीधे तौर पर जिम्मेदार ठहराया सिद्धू ने भी मुख्यमंत्री पर पलटवार करते हुए कहा था कि जालंधर अमृतसर पटियाला लुधियाना जैसे शहरों में कांग्रेस के उम्मीदवारों की जीत हुई है और इसी के साथ अन्य मंत्रियों ने भी सिद्धू पर निशाना साधा था इसके बाद नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी ने पलटवार किया