Rajpura (jaspreet):-आम आदमी पार्टी के बागी और इस्तीफा देने वाले विधायकों को बाहर करने की मांग तेज हो गई हैं और ऐसे में आज पंजाब विधान सभा स्पीकर के ऊपर दबाव लगातार बढ़ता चला जा रहा है और जिसमें एच एस फुल्का के इस्तीफे की बात भी निकल कर सामने आ रही है और उसमें कहा जा रहा है कि एचएस फूलका का इस्तीफा सही ढंग से लेना चाहिए और वही सुखपाल सिंह खैरा की बात करें तो उनके विधायक की कुर्सी पर भी एक बड़ा खतरा मंडराने लगा है और इन सब बातों के जवाब देने के लिए जन तक विज्ञापनों का सहारा लिया जा सकता है

पंजाब विधानसभा के स्पीकर राणा केपी ने बताया की सुखपाल सिंह खैरा ने आम आदमी पार्टी के विधायक पद से इस्तीफा के बारे में उनसे जवाब तलबी इन इन जन तक विज्ञापनों के द्वारा अब उनसे जवाब तलबी की जाएगी और इसके अलावा आम आदमी पार्टी के विधायक एच एस फुल्का की तरफ से अपने विधायक पद से इस्तीफा दिए जाने के ऊपर अब कानूनी प्रक्रिया का सहारा लिया जाएगा

और आपको बता दें कि अकाली दल के विधायक परमिंदर सिंह ढींडसा और अकाली दल के विक्रम सिंह मजीठिया ने यह बात कही है कि आम आदमी पार्टी के 3 विधायक सुखपाल सिंह खैरा एचएस फूलका मास्टर बलदेव सिंह जो इस्तीफा दे चुकी है लेकिन इसके बावजूद भी वह पंजाब विधानसभा के अंदर आ रहे हैं और इसके बारे में क्लियर होना चाहिए और उन्होंने कहा कि इस्तीफा देने वाले इन सभी विधायकों की बात करें तो वह विधानसभा की प्रतिक्रिया के अंदर शामिल रहे जबकि पार्टी के कुछ विधायक अपने आप को आम आदमी पार्टी से अलग बता रहे हैं और शिरोमणि अकाली दल ने दोष लगाया कि इस पार्टी के इस्तीफा देने वाले विधायक सरकारी खजाने का दुरुपयोग कर रहे हैं  और दूसरे विधायकों की तरह वह सब DA,TA और दूसरी सभी विधायकों को मिलने वाली सुख सुविधाओं का फायदा उठा रहे हैं और इस मामले के अंदर शिरोमणि अकाली दल ने इस बात को इस बात का शक है कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच समझौता हो सकता है

इस बात के ऊपर पंजाब विधानसभा के स्पीकर राणा केपी ने बताया कि उनकी तरफ से सुखपाल सिंह खैरा को 2 दिन दो-तीन बार नोटिस भेजा गया और उनके निजी तौर से मिलकर जवाब देने के लिए उनको कहा गया है पर सुखपाल सिंह खैरा इन भेजे हुए नोटिस ओं के ऊपर रिपोर्ट करवा देते हैं और बोलते हैं कि वह नोटिस उनको मिले नहीं और अब पंजाब विधानसभा के स्पीकर राणा के पी इन सभी नोटिस ओं को विज्ञापनों के द्वारा सुखपाल सिंह खैरा तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे

राणा केपी ने बताया कि जहां तक एचएस फुल कर एचएस फूलका के इस्तीफे का सवाल है उन्होंने कल ही एचएस फूलका को बुला कर इस बात के ऊपर बातचीत की है कि आसिफा के नियमों के बारे में कुछ भी नहीं लिखा गया पर इस पर एचएस फूलका इन सब बातों को सही करार कर रहे हैं और इसीलिए एचएस फूलका के बारे में कानूनी प्रक्रिया का सहारा लेना पड़ेगा और पंजाब विधानसभा के स्पीकर ने यह भी बताया बेशक यह सब मामले उनके अधिकार के अंदर आते हैं पर फिर भी किसी को किसी भी तरह का कोई ऐतराज है तो वह अदालत में जा सकता है