Pakistan's PM Imran Khan warned India of war and said the affidavit will be answered.

इस्लामाबाद (ब्यूरो):- पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जिन्होंने अब भारत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक बड़ी अपील की है कि पाकिस्तान को शांति का एक मौका दे इमरान खान का कहना है कि वह अपनी बात पर हमेशा कायम रहते हैं पुलवामा हमले में भारत सरकार उनको पुख्ता सबूत मुहैया करवा कर दें तो पाकिस्तान सरकार उस पर सख्त से सख्त एक्शन लेगी

आपको बता दें इमरान खान के बयान के ऊपर भारत के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनको चेतावनी देते हुए यह बात कही थी राजस्थान के एक कार्यक्रम में कि पुलवामा हमले के दोषियों को भारत छोड़ेगा नहीं और नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा था कि इस बार हिसाब बराबर का होगा नरेंद्र मोदी का कहना था कि नए भारत की यह नीति है इसमें दर्द को सहन नहीं किया जाएगा और नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा था कि हमें पता है कि आतंकवाद को कैसे कुचल है और उसकी तैयारी चल रही है
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि जब इमरान खान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने थे तब उनको फोन के ऊपर बधाई दी गई और उस वक्त इमरान खान ने खुद यह बात कही कि वह पठान का बच्चा है गरीबी और शिक्षा के मुद्दे पर मिलकर काम करने की बात कही और दोनों देशों से गरीबी और शिक्षा बेहतर करने के लिए नए कार्यक्रम की बातें की गई और नरेंद्र मोदी का कहना था कि वह अपनी बातों से पलट गए

19 फरवरी को इमरान खान ने यह बात कही थी कि पुख्ता सबूत मिलने के बाद ही पाकिस्तान जैश ए मोहम्मद पर कार्रवाई करेंगे और उस वक्त पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने यह भी कहा था कि भारत अगर हमला करेगा तो पाकिस्तान उस हमले का करारा जवाब देगा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने यह भी बताया था कि मोदी के साथ 2015 में हुई बैठक के दौरान दोनों देशों ने मिलकर आतंकवाद का मुकाबला करने के ऊपर अपनी बड़ी सहमति जताई थी

लेकिन जम्मू कश्मीर के पुलवामा हमले से काफी पहले सितंबर यानी 2018 में ही भारत ने अपने कदमों को पीछे खींच लिया था पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इशारा उस घटना की तरफ किया जिसमें भारत ने पाकिस्तान के साथ होने वाली विदेश मंत्री स्तर की बैठक को पिछले साल रद्द कर दिया था जिसमें भारत ने यह बात बताई थी कि यह कदम बीएसएफ के जवान की हत्या और आतंकी बुरहान वानी के नाम पर पाक में डाक टिकट जारी होने पर उठाया था।

भारतीय विदेश मंत्रालय का अब यह मानना है कि पुलवामा हमले के साक्ष्य मिलने पर कार्रवाई करने की बात कह रहे हैं यह सिर्फ पाकिस्तान का एक बड़ा बहाना है हर बार बहानेबाजी करता है जैश-ए-मोहम्मद और उसका सरगना मसूद अजहर पाकिस्तान के अंदर ही है और वही मुंबई पठानकोट हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के साथ सारे को सारे साक्ष्य सबूत मुहैया करवा कर दिए थे लेकिन पाकिस्तान के उन पाकिस्तान ने उन सभी सबूतों के ऊपर कोई भी कार्यवाही नहीं की और ऐसी बहानेबाजी अब इमरान खान सरकार भी कर रही है