Connect with us

पंजाब

कुवैत में फंसा गुरदासपुर का बीमार युवक, घर वालों ने वापिस लाने की लगाई गुहार

Published

on

Sick young man from Gurdaspur
Photo By Aaj News wala Reporter : Jatinder Kundal

गुरदासपुर (जतिंदर कुंडल) 23 मई:- अपने व अपने परिवार का भविष्य संवारने के लिए पंजाब के हज़ारों युवक विदेशों का रुख़ कर रहे हैं। हालां की इन में से सभी युवकों को विदेशी धरती रास नहीं आती व यह लोग किसी न किसी कारण विदेश में फंस कर रह जाते हैं। विदेश ख़ासकर अरब देशों मेँ जाने वाले यह युवक वहां पर जा कर पैसे कमाना तो दूर की बात अपने घर सही सलामत पहुंचने को तरसते पाए जाते हैं। ऐसा ही एक मामला गुरदासपुर के गांव जौहल नँगल में सामने आया है. जहां दो छोटे छोटे बच्चों का पिता अपनी बीमारी के कारण कुवैत में फंस कर रह गया है।

Punjab में कोरोना के 14 नए मामले सामने आए, ताजा आंकड़े जारी

करीब 35 वर्षीय जसबीर सिंह पुत्र करतार सिंह करीब ढाई साल पहले विदेश गया था, लेकिन वहां पहुंचने के बाद वह बीमार हो गया। हालां की करीब एक साल पहले जसबीर सिंह कुवैत से छुट्टी लेकर अपने गांव आया था, लेकिन कुवैत वापिस लौटने के बाद अजीबोगरीब बीमारी का शिकार हो गया। हालां की कुवैत में उस का ठीक से उपचार न होने के कारण पहले तो जसबीर सिंह को उस के घर वाले दवाइयां आदी भेजते रहे और उस का ईलाज चलता रहा। लेकिन पिछले 2 महीने से भारत में लागू किए गए लॉक डाउन के कारण उस को दवाइयां नहीं भेजी जा सकी।

Punjabi Food Seva के सभी कार्यों की मेयर पैट्रिक ब्राउन ने जमकर तारीफ की

इस लिए हालत यह है कि कुवैत के डॉक्टरों के मुताबिक जसबीर सिंह का पैर काटना ही एक मात्र उपाय है। वहीं दूसरी तरफ बीमार युवक का मानना है कि अगर उस का भारत लाकर इलाज करवाया जाए तो उस का पैर काटे बिना भी इलाज हो सकता है। हालां की घर वालों का कहना है कि जसबीर सिंह पिछले समय से पेट की इंफेक्शन का मरीज़ है | जब तक उसे भारत से भेजी जाने वाली दवा मिलती रही, तब तक वह ठीक ठाक रहा। लेकिन लकड़ाऊंन के शुरू होने के बाद, जसबीर सिंह को उस की दवा नहीं भेजी जा सकी

CANADA की सीमाओं को बंद करने में कनाडा ने दिखाई सुस्ती : टैम

उधर इसी दौरान जसबीर सिंह की कुवैत में दवाई खत्म होने के चलते उस की बीमारी बढ़ती चली गई। फिलहाल कुवैत में फंसे जसबीर सिंह के बजुर्ग पिता, पत्नी व दो छोटे छोटे बच्चों पंजाब और भारत सरकार से गुरहर लगाई है | कि उन के बेटे को जल्द से जल्द भारत वापिस बुलवाया जाए तांकि जसबीर भारत सिंह का भारत में सही उपचार करवा कर उस के पांव को कटने से बचाया जा सके। वहीं दूसरी तरफ कुवैत में बीमार युवक जसबीर सिंह ने अपनी व्यथा सुनाते हुए बताया है, की उसे किस तरह की बीमारी है और उस ने जहां तक पहुंच हो सकी कुवैत के अधिकारियों से भी सहायता की गुहार लगाई।

लेकिन किसे ने भी उस की एक न सुनी। इस वीडियो में जसबीर सिंह ने भी भारत सरकार से उसे वापिस बुलवाए जाने की अपील की है।

पूरे मामले में जानकारी देते हुए जसबीर सिंह की पत्नी ने बताया कि इस के पती जसबीर सी सिंह करीब ढाई साल पहले परिवार का भविष्य सँवारने के लिए कुवैत गए थे . वहां पर किसी कम्पनी में काम कर अछी कमाई कर रहे थे। इस दौरान जसबीर सिंह करीब सवा साल पहले एक बार घर वापिस भी आए और वापिस लौट गए। उन्हों ने बताया कि जसबीर सिंह पहले ही पेट की इंफेक्शन से पीड़ित थे, जिस के कारण उन का भारत से इलाज चल रहा था और दवा भी यहीं से कुरियर के ज़रिए लगातार दवाई भेजी जा रही थी ।

उन्हों ने बताया कि बीते 2 महीनों से शुरू किए गए लकडान के दौरान सारी सेवाएं बंद होने के चलते जसबीर का परिवार उसे दवा नहीं भेज स्का और दवा के अभाव में उस की बीमारी बढ़ते बढ़ते इतनी बढ़ चुकी है कि कुवैत के डॉक्टरों द्वारा जसबीर का पैर काटने की बात कही जा रही है। उन्हों ने भारत सरकार से जसबीर को वापिस लाने की अपील करते हुए कहा कि अगर जसबीर को भारत वापास ला कर इलाज करवाया जाए तो उस का पैर कटने से बचाया जा सकता है।

मामले के सबंध में बात करते हुए कुवैत में फंसे जसबीर सिंह के पिता ने बताया कि उन की मात्र डेढ़ एकड़ जमीन है और जसबीर सिंह के परिवार में उस के दो साल व ढाई साल के छोटे छोटे बच्चे व पत्नी शामिल हैं। उन्हों ने बताया कि ज़मीन कम होने व पूरे परिवार का खर्च ज़ियादा होने के कारण घरेलू हालात ख़स्ता हो चुके थे। इस के कान जसबीर सिंह को कुवैत भेज था।

उन्हों ने कहा कि वह खुद बहुत बजुर्ग हो चुके हैं और जसबीर सिंह भी बीमारी के आलम में कुवैत के अंदर फंस कर रह गया है। उन्हों ने कहा कि कुवैत में जसबीर सिंह पहले से ही पेट की इंफेक्शन का शिकार है, जिस की कुवैत के डॉक्टरों को समझ नहीं आ रही।उन्हों पंजाब व भारत सरकार से अपील करते हुए कहा कि जसबीर सिंह को जल्द से जल्द भारत मंगवाया जाए, ता की उस का ठीक ढंग से इलाज करवा कर उस का पैर बचाया जा सके।

Trending