नई दिल्ली RAJU ):-भारतीय सीमा के ऊपर लगातार बनते तनाव के बीच भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट कीमतों को लेकर हमेशा ही यह बात सुनने को मिलती है कि यह मैच होंगे या नहीं होंगे और ऐसा ही एक वक्त अब फिर से आ गया क्योंकि पुलवामा के अंदर पाकिस्तान के आतंकी संगठन द्वारा बड़ा हमला किए जाने के बाद एक बार फिर यह मांग जोर पकड़ने लगी है कि विश्व कप क्रिकेट के मैच में पाकिस्तान के साथ क्या भारतीय टीम मैच खेलेगी या नहीं और क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड बीसीसीआई के पूर्व उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला का एक बयान निकल कर आया और उन्होंने कहा कि 10 साल से पॉलिसी रही है चाहे वो वाजपेयी के दौर का हो या फिर किसी और राजनीतिक पार्टी का दौर हो, और हम पाकिस्तान के साथ नहीं खेल सकते द्विपक्षीय मैचों की बात की जाए तो भारतीय क्रिकेट टीम सुरक्षा कारणों की वजह से पाकिस्तान नहीं जाती और यही सब पाकिस्तान की तरफ से भी है उनको भी सुरक्षा कारणों के वजह से भारत नहीं आना होता

आपको यह भी बता देना कि अंतरराष्ट्रीय स्तर के ऊपर आईसीसी के टूर्नामेंट्स जिस में भारत की टीम और पाकिस्तान की अनिवार्य है, लेकिन दोनों देशों के बीच अगर द्विपक्षीय मैच होते हैं तब भारत की टीम पाकिस्तान के साथ नहीं खेल सकती और राजीव शुक्ला ने इस बात का भी बड़ा खुलासा किया और कहा कि सरकार कहेगी तब भी भारतीय टीम आगे बढ़कर पाकिस्तान के साथ मैच खेलने मैदान पर उतरेगी और अगर भारत सरकार इस बात पर मना करती है तो पाकिस्तान के साथ भारतीय टीम मैच नहीं खेलेगी

वहीं दूसरी और आईसीसी और वर्ल्ड कप 2019 आयोजित समिति को अब भी विश्वास है कि 16 जून को मैनचेस्टर के अंदर होने वाले हिंदुस्तान और पाकिस्तान मैच का कार्यक्रम के अनुसार ही खेला जाएगा हालांकि आईसीसी ने यह भी कहा है कि वर्ल्ड कप से पहले भारत और पाकिस्तान के संबंधों पर उसकी पूरी तरह से नजर रहेगी क्रिकेट की सबसे बड़ी नियामक संस्था का यह बयान उन सभी अटकलों के बीच आया जिसमें आशंका जताई जा रही है कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद वर्ल्ड कप 2019 में भारत पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले सभी मैचों का बहिष्कार करेगा वह पाकिस्तान के साथ कोई भी मैच नहीं खेलेगा आपको यह भी बता दे कि आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष डेविड रिचर्डसन ने यह बताया कि फिलहाल दोनों टीमें फिलहाल दोनों क्रिकेट बोर्ड की ओर से ऐसा कोई संकेत भी उनको नहीं मिला और उनका हमने अब तक इस बारे में दोनों बोर्ड को नहीं लिखा है

भारत के पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह ने भी एक बड़ा बयान दिया उन्होंने कहा कि 16 जून को भारत मैनचेस्टर के अंदर पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय टीम को बिल्कुल भी नहीं खेलना चाहिए हालांकि बीसीसीआई की एक सीनियर अधिकारियों ने हरभजन की टिप्पणी के ऊपर का कि हरभजन ने अपना पक्ष रखा है यह सब का पक्ष नहीं हो सकता लेकिन यह नहीं कहा कि अगर हमें उनका उनके खिलाफ सेमीफाइनल या फाइनल खेलना पड़े तो क्या हम नहीं खेलेंगे काल्पनिक हालात पर बात हो रही है तो अब यह कहा जा सकता है कि 16 तारीख को मैनचेस्टर में खेले जाने वाले भारत पाक मैच के ऊपर अभी भी खतरे की तलवार लटक रही है