The death of a police constable died after the PM’s rally.

गाजीपुर उमाशंकर त्रिपाठी शनिवार को गाजीपुर में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक बड़ी रैली के बाद प्रदेश के पुलिस कर्मियों के ऊपर पथराव किया गया पथरा में सुरेश वत्स नामक एक पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई है और 2 लोग इस घटना में घायल हो गए हैं और यह घटना उस वक्त हुई जब धरने पर बैठे निषाद समाज के लोगों को पुलिस हटाने गई थी. और आपको बता दें कि इस घटना में कुल 22 लोगों को पुलिस ने हिरासत में भी ले लिया है सभी संदिग्धों से नोनहरा थाने में पूछ पड़ताल की जा रही है

शनिवार को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में सुरेश वसंत और उनकी टीम की ड्यूटी लगी थी और वापसी में निषाद समाज के लोगों का जो बड़ा धरना लगा हुआ था और इस धरने में उनकी मांग थी कि उनको भी आरक्षण मिले मगर जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को वहां से हटने को कहा तो प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी और सूत्रों के मुताबिक कॉन्स्टेबल सुरेश वसंत को पत्थर लगा और वह जमीन पर तो गिरे तो किसी को उनका अंदाजा तक नहीं हुआ कि क्या हुआ है और साथी पुलिस कर्मचारियों ने देखा की भीड़ लाठी डंडा चला रही है तब वह उधर से भाग खड़े हुए और उन्होंने देखा कि भीड़ घायल सुरेश उसको लाठी डंडों से बुरी तरह से पीट रहे हैं उसके बाद लोगों को भगा कर घायल श्रेशन को हॉस्पिटल में ले जाया गया लेकिन कॉन्स्टेबल को चोट इतनी लगी थी कि वह रास्ते में ही दम तोड़ गया घटनास्थल के ऊपर कुल 14 पुलिसकर्मी मौजूद है पथराव की यह बड़ी घटना नोन हरा थाने के कठवा मोड़ चौकी के पास हुई

निषाद पार्टी के आरक्षण की मांग को लेकर हुए इस बड़े पथराव में उत्तर प्रदेश पुलिस का एक सिपाही जिसकी मौत हो गई है उसके बाद प्रशासन ने तुरंत अपनी कार्यवाही शुरू की और हरकत में आए योगी सरकार ने इस घटना की पूरी जांच तुरंत करने के आदेश जारी कर दिए और योगी सरकार ने कहा है कि दोषियों के ऊपर कठोर कार्रवाई की जाए और साथ ही साथ इस मामले में सरकार ने एक मुआवजे का ऐलान भी किया है साथ ही पेंशन और नौकरी के वादे भी योगी सरकार की तरफ से इस पूरे मामले पर किए गए हैं गाजीपुर पथरा में मारे गए पुलिसकर्मी के परिवार वालों को सरकार पूरा मुआवजा देगी कॉन्स्टेबल की पत्नी को ₹4000000 माता पिता को 1000000 रुपए और नौकरी का एलान योगी सरकार की तरफ से किया गया है

निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय निषाद ने भाजपा के लोगों पर आरोप मरते हुए कहा कि इसके पीछे भारतीय जनता पार्टी के लोगों का हाथ है और उनके कार्यकर्ताओं ने ही यह सब कुछ किया है इस पूरे मामले में कांग्रेस भी उतर कर बाहर आ चुकी है कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अपने सोशल मीडिया हैंडल से इस घटना को उत्तर प्रदेश में जंगलराज से जोड़ दिया है उन्होंने ट्वीट में कहा कि आदित्यनाथ के महा जंगलराज में ना जनता सुरक्षित है और ना ही उत्तर प्रदेश पुलिस रक्षित है आज गाजीपुर में मोदी की रैली के बाद भीड़ ने पुलिस कांस्टेबल सुरेश की निर्मम हत्या कर दी उन्होंने इस घटना को बुलंदशहर की पिछली घटनाओं से जोड़ते हुए कहा इससे पहले इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या की जिसमें मुख्यमंत्री ने दुर्घटना करार दिया भारतीय जनता पार्टी के राज में लोकतंत्र भीड़ तंत्र बन गया