Murder case will now be decided on the guilty for misbehaving Gurmeet Ram Rahim, who has been serving a 20-year sentence.

नई दिल्ली उमाशंकर त्रिपाठी पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस के अंदर आज एक बड़ा फैसला पंचकूला की सीबीआई कोर्ट सुना सकती है और इस फैसले को सीबीआई की अदालत वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनाएगी और आपको बता दें इस मामले में डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम समेत अन्य कई लोग आरोपी हैं डेरा प्रमुख राम रहीम दो महिलाओं के साथ रेप के मामले में 20 साल की जेल की सजा काट रहा है और इस वक्त फिलहाल डेरा प्रमुख हरियाणा की सुनारिया जेल के अंदर बंद है और उसे पत्रकार की हत्या मामले में आज फांसी या फिर उम्र कैद की सजा सुनाई जा सकती है

आज फैसला आने की संभावना के चलते सिरसा और इसके आसपास के इलाकों के अंदर पुलिस का हाई अलर्ट जारी है सिरसा के अंदर धारा 144 लागू कर दी गई है और प्रदेश में 12 कंपनियां हरियाणा पुलिस की सिरसा के अंदर पहुंच चुकी हैं सुरक्षा के मद्देनजर पूरे शहर में नाकाबंदी की गई है और कई जगहों के ऊपर तलाशी अभियान चल रहा है और इस तलाशी अभियान का चलाने की मंशा पुलिस की यह है कि पहले भी दंगा भड़का था तो बहुत सा ऐसा सामान जो लोगों ने पंचकूला के अंदर जमा कर रखा हुआ था

पुलिस का कहना है कि हरियाणा पुलिस हर स्थिति को निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है और कोई अप्रिय घटना ना घटे इसलिए सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं और इसी बीच डेरा की वाइस चेयरपर्सन ने एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने डेरे के श्रद्धालुओं को न्यायपालिका के ऊपर विश्वास करने की बात करते हुए एक बड़ी अपील की है कि किसी भी तरह की कोई भी अफवाह के ऊपर ध्यान बिल्कुल मत दें और शांति बनाए रखें

और आपको बता दें अगस्त 2018 में रेप मामले के अंदर डेरा प्रमुख राम रहीम को सजा सुनाए जाने के पर हरियाणा के अंदर पंचकूला में और सिरसा के अंदर एक बड़ी हिंसा भड़क उठी थी और जिसके अंदर 41 लोगों की मौत हो गई थी और 260 से ज्यादा लोग जख्मी हो गए थे और ऐसी हिंसा की घटनाएं पंजाब और दिल्ली के अंदर भी हुई थी और ऐसा कुछ ना हो इसलिए पहले ही पुलिस ने पूरी तरह से इंतजाम कर लिए हैं

और जानकारों की मानें तो उन्होंने बताया कि डेरा सिरसा के प्रबंधन द्वारा डेरे के अंदर होने वाले धार्मिक सभी कार्यक्रमों के ऊपर 11 जनवरी तक रोक लगा दी गई है और डेरे के शिक्षित स्थानों को भी छुट्टी कर दी गई है और डेरे की वाइस चेयरपर्सन शोभा हिंसा ने भी ट्वीट करते हुए डेरे के श्रद्धालुओं को शांति व्यवस्था बनाए रखने की एक बड़ी अपील की है और ट्वीट में उन्होंने कहा कि कोई भी किसी भी अफवाह के ऊपर बिल्कुल भी ध्यान मत दे और सभी डेरे के श्रद्धालु न्यायपालिका के ऊपर पूरा विश्वास करें

और आपको यह भी बता दें कि जिस मामले के अंदर राम रहीम सजा काट रहे हैं उसका खुलासा भी पत्रकार रामचंद्र छत्रपति नहीं किया था दो महिलाओं के यौन शोषण का आरोप लगाने लगाते हुए उन्होंने पत्र भी लिखे थे और उसके आधार पर रामचंद्र छत्रपति ने अपने अखबार में खबरों को प्रकाशित करना शुरू कर दिया जिसके बाद 24 अक्टूबर 2002 को उनके ऊपर एक बड़ा हमला किया गया और 21 नवंबर 2002 को दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल में उनकी मृत्यु हो गई थी और जिसके बाद यह पूरा मामला तूल पकड़ गया और अब डेरा प्रमुख के ड्राइवर खट्टा सिंह के बयानों के बाद आज सीबीआई की विशेष अदालत इस पूरे मामले के ऊपर अपना फैसला सुनाएगी