अहमदाबाद ( उमाशंकर त्रिपाठी ):- अरब सागर से गुजरात की ओर बढ़ रहे एक बड़े चक्रवर्ती तूफान वायु का असर अभी से देश के लोगों को दिखना शुरू हो चुका है भारत के कई तटीय इलाकों में धूल भरी आंधी और समंदर में एक बड़ा ज्वार उठ रहा है और हैरान करने वाली बड़ी तस्वीरें जो सामने निकल कर आ रही हैं वह सोमनाथ मंदिर के आसपास आंधी आने की बड़ी तस्वीरें जारी हुई है और आसमान के ऊपर बड़े बादल छा गए और इसके साथ साथ धूल भरी आंधी चलने से आम जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित हो चुका है और वही भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि केंद्र सरकार गुजरात के हालात के ऊपर लगातार नजर बनाए रखें
आपको यह भी बता दें कि भारतीय मौसम विभाग के अनुसार चक्रवर्ती तूफान गुरुवार की सुबह भारत के गुजरात में पोरबंदर और कचरे से तटीय इलाकों के साथ टकरा सकता है और वही गुजरात के पोरबंदर में चौपाटी बीच पर बुधवार शाम को तेज हवाएं चल रही हैं और समंदर के अंदर ऊंची लहरें भी उठ रहे हैं गुजरात राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों ने एक बड़ी जानकारी सार्वजनिक की है की शाम 4:00 बजे तक का कुल 1,64,090 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर हैंडल पर जाकर ट्वीट किया और कहा कि केंद्र सरकार चक्रवर्ती तूफान भाइयों के कारण गुजरात और भारत के दूसरे हिस्सों में पैदा होने वाले हालातों के ऊपर पूरी तरह से निगरानी रखेगी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राज्य सरकारों के साथ लगातार संपर्क में हूं एनडीआरएफ और दूसरी एजेंसी हर संभव सहायता उपलब्ध करवाने के लिए सभी राज्यों में लगातार काम कर रही हैं और एक दूसरे ट्वीट में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि चक्रवात से आम लोगों की सुरक्षा और भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं और उन्होंने यह भी कहा कि भारत सरकार और एजेंसियां सूचना दे रही है प्रभावित इलाकों के लोगों से इसका पालन करने का अनुरोध करता हूं
भारत के 10 राज्यों के अंदर इस बड़े तूफान का कहर हो सकता है राज्य सरकार ने बताया कि चक्रवात से कच्छ मोरबी जामनगर जूनागढ़ देवभूमि द्वारका पोरबंदर राजकोट अमरेली भावनगर और गिर सोमनाथ जिले बुरी तरह से प्रभावित हो सकते हैं इन जिलों के अंदर निचले इलाकों में रह रहे लोगों को पूरी तरह से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है और साथ ही गुजरात सरकार ने यह भी कहा है कि प्रभावित लोगों को सरकारी इमारतों a1 गैर सरकारी संगठनों की इमारतों के अंदर शरण दी जाएगी खतरे को भागते हुए भारत सरकार ने अपनी तीनों सेनाओं को अलर्ट रहने का आदेश जारी किया है और मुख्य सचिव पंकज कुमार ने लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने की प्रक्रिया में एनडीआरएफ की करीब 36 कंपनियों को स्थानीय प्रशासन की मदद के लिए भेज दिया गया है और वही 10 जिलों के अंदर स्कूल काल और आंगनवाड़ियों में 12 और 13 को एहतियातन छुट्टी की घोषणा कर दी गई है और भारत की तीनों सेनाओं को हर मुश्किल से लड़ने के लिए तैयार रहने को कहा गया है