Connect with us

विदेशी

Pakistan Airlines का विमान कराची के अंदर पायलट और एटीसी की गलती से हादसा ग्रस्त हुआ, जानिए पूरी रिपोर्ट

Published

on

Pakistan Airline plane crashes in Karachi
Photo : social Media

पाकिस्तान 24 जून 2000:- पाकिस्तान के शहर कराची में पिछले महीने पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस

Advertisement
पी आई ए का एक विमान हादसा ग्रस्त हो गया था और यह विमान कराची के आबादी वाले क्षेत्र में जा गिरा था.विमान की पहली जांच रिपोर्ट के मुताबिक दुर्घटना विमान के कॉकपिट में बैठे चालक दल और हवाई यातायात नियंत्रण (एटीसी) की लापरवाही की वजह से हुई ना कि विमान के अंदर किसी भी तरह की कोई तकनीकी खामी की वजह से हुई है.

दिल्ली के पाक उच्चायोग मैं जासूसी करने के कारण कर्मचारियों मैं 50% की कटौती करने का आदेश

आपको यह भी बता दें कि इस विमान हादसे के अंदर 97 लोग मारे गए थे और जिस इलाके में यह विमान गिरा था उस इलाके के अंदर भी भारी नुकसान हुआ.पीएआई का विमान 22 मई के दिन लाहौर से कराची के लिए रवाना हुआ था लेकिन कराची स्थित जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बहुत ही नजदीक उतरने से महज कुछ मिनट पहले ही कराची के रिहायशी इलाके में वह हादसा ग्रस्त हो गया था.

इंग्लैंड टूर पर जाने से पहले पाकिस्तान क्रिकेट टीम के 7 और खिलाड़ी क्रोना वायरस पॉजिटिव

एयरबस ए-320 मॉडल के इस पाकिस्तानी विमान के अंदर 91 यात्री और चालक दल के 8 सदस्य यात्रा कर रहे थे. इस हादसे के अंदर 2 यात्री चमत्कारी ढंग से बच गए थे जबकि विमान के अंदर सवार दूसरे 97 लोगों के साथ जमीन पर एक लड़की के जलने से मौत हुई थी. इस पूरे मामले की जांच करने के लिए पाकिस्तान सरकार ने एक आयोग का गठन किया था जिसकी पहली रिपोर्ट 22 जून को संसद के अंदर सांझा की गई थी.

लेकिन उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने इस रिपोर्ट को संसद में पेश करने की बजाय पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ( Imran Khan ) को सौंप दी. अधिकारियों ने यह बात बताई की रिपोर्ट के मुताबिक पायलट और एटीसी के अधिकारी प्राथमिक रूप से दुर्घटना के लिए जिम्मेदार हैं. मीडिया के अंदर कई तरह की खबरें निकल कर आई.

सीएए कर्मचारी कॉकपिट में बैठे चालक दल के सदस्य विमान निरंतर टावर और एटीसी ने लगातार बहुत गलतियां की. रिपोर्ट के अंदर यह भी बताया गया है कि ब्लैक बॉक्स में अभी तक तकनीकी खामी के कई संकेत उनको मिल रहे हैं. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जब पायलट ने पहली बार विमान उतारने की कोशिश की तब ऊंचाई और गति दोनों मानक से अधिक थे.

इस आई रिपोर्ट के अनुसार पहली बार विमान जब उतारने की कोशिश पायलट के द्वारा की जा रही थी तब उनके 9000 मीटर लंबी हवाई पट्टी के मध्य में भूमि को स्पष्ट किया.वही हवाई यातायात नियंत्रण कक्ष ने अधिक गति और ऊंचाई होने की वजह से विमान को एयरपोर्ट पर उतारने की अनुमति नहीं दी. अखबार के मुताबिक पायलट ने जब लैंडिंग गियर के जाम होने की सूचना निरंतर टावर को नहीं दी. पायलट द्वारा विमान को दोबारा उतारने की कोशिश एक बड़ा खतरनाक गलत फैसला था.

रिपोर्ट के अनुसार पहली बार विमान उतारने की कोशिश पायलट के द्वारा नाकाम होने के बाद 17 मिनट तक पाकिस्तान एयरलाइन का जहाज हवा में उड़ता रहा यह बहुत समय था. जब विमान के दोनों दोनों इंजन ने काम करना बंद कर दिया था. पहली रिपोर्ट के मुताबिक विमान का इंजन 12 घंटे तक हवाई पट्टी पर रहा लेकिन कर्मचारियों ने उसे नहीं हटाया और बाद में अन्य विमानों को वहां पर उतरना उतारने की अनुमति दे दी. जो मानक परिचालन प्रतिक्रिया का बड़ा उल्लंघन है.

इस अखबार की रिपोर्ट के अनुसार यह भी बताया गया है कि हवाई यातायात नियंत्रण के कार्य में लगे कर्मचारियों को घटना के बाद छुट्टी दे देनी चाहिए. लेकिन वह शाम 7:00 बजे तक वहां काम करते रहे उल्लेखनीय है कि इस जांच आयोग का नेतृत्व एयर कमोडोर उस्मान घनी कर रहे थे. सोमवार के दिन 22 जून को रिपोर्ट जमा करने के दौरान उन्होंने उउ्ड्डयन मंत्रालय को इस बात की पूरी जानकारी दी.

Trending