Connect with us

विदेशी

कोरोनावायरस की पहली सफल वैक्सीन रूस ने तैयार की, इंसानों पर किसी भी तरह का कोई खतरा नहीं

Published

on

Russia prepared the first coronavirus vaccine
Photo : social Media

रूस ( Parmjeet S. Bhakna

Advertisement
):- पूरी दुनिया जहां करो ना वायरस की वैक्सीन बनाने में लगी हुई है वही एक राहत की खबर हर रोज से निकल कर आ रही है और रूस से निकल कर आ रही है. क्योंकि इस मुल्क में कोरोनावायरस की वैक्सीन तैयार कर ली है और इसका सफल परीक्षण भी कर लिया गया है. रूस की सेचेनोव यूनिवर्सिटी ने रविवार 13 जुलाई को विश्व की पहली कोरोनावायरस वैक्सीन का सफल परीक्षण कंप्लीट कर लिया है.

अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन कोरोना संक्रमित, अस्पताल में करवाया भर्ती

ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी वुतिम तारासोव संस्थान के महानिदेशक ने बताया कि जिन मरीजों के ऊपर इस वैक्सीन का उपयोग किया गया. उनमें से पहले समूह को बुधवार के दिन 15 जुलाई को और दूसरा समूह जिसको 20 जुलाई के दिन हॉस्पिटल के अंदर से छुट्टी दे दी जाएगी. महानिदेशक ने बताया कि पर विश्व की पहली कोरोनावायरस वैक्सीन का एक जबरदस्त सफलता पूर्वक परीक्षण किया गया और यह सफल भी रहा. रूस के ‘द गैमली इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी’ द्वारा विकसित की गई वैक्सीन का पहला परीक्षण जिसकी शुरुआत 18 जून के दिन हुई थी.

उत्तर प्रदेश में लगा 2 दिन का लॉकडाउन, जानें क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

सेचेनोव विश्वविद्यालय में चिकित्सा विज्ञान, उष्णकटिबंधीय एवं संक्रमण जनित रोग संस्थान के निदेशक अलेक्जेंडर लुकाशेव ने बताया है कि इस वैक्सीन के ट्रायल का हमारा यह मकसद था कि यह वैक्सीन मानव स्वास्थ्य के ऊपर कैसे असर करती है और कितने सुरक्षित है. इसके लिए हम लोगों ने सफलतापूर्वक इन परीक्षणों को किया है. अलेक्जेंडर लुकाशेव यह भी बताया कि वैक्सीन के सुरक्षित होने की पुष्टि पूरी तरह से हो चुकी है और यह मौजूदा टाइम के अंदर बाजार में उपलब्ध टीकों के समान सुरक्षित है.

बॉलीवुड में विकास दुबे पर फिल्म बनने की खबरें हुई गर्म,मनोज वाजपेयी का किरदार निभाने की बात पर, यह बात कही

अलेक्जेंडर लुकाशेव ने यह भी बताया वैक्सीन विकास योजना पर पहले ही उत्पादन नीति निर्धारित की जा रही है. जिसके साथ वायरस और महामारी विज्ञान की स्थिति और बड़े स्तर पर इस टीके की उत्पादन करने की संभावना शामिल है. तारासोव ने कहा कोरोनावायरस महामारी की स्थिति के अंदर सेचेनोव विश्वविद्यालय की तरफ से ना केवल शिक्षण संस्थान के रूप के अंदर बल्कि एक शैक्षणिक संस्थान और तकनीकी अनुसंधान केंद्र के द्वारा रूस में इस पर काम किया गया है. जो ड्रग्स जैसे महत्वपूर्ण और जटिल उत्पादों के निर्माण में भाग लेने के अंदर पूरी तरह से सक्षम है.
हमने इस टीके के साथ काम को पूरी तरह से चालू कर दिया है.प्रीक्लिनिकल स्टडीज और प्रोटोकॉल डेवलपमेंट, और क्लीनिकल ट्रायल भी चल रहे हैं.

दूसरी तरफ आपको बता दें कि रूस में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोनावायरस संक्रमित मरीज 1 दिन में रिकॉर्ड 6615 मामले निकल कर सामने आए हैं. जिन्होंने सबको चौंका दिया. कोरोनावायरस रिस्पांस सेंटर के मुताबिक अब तक नए मामले 83 क्षेत्रों के अंदर से निकल कर आए हैं और इनमें से 1491 मरीजों को कोरोना के लक्षण बिल्कुल नहीं है. इन मामलों के अंदर देश की देश में कोरोनावायरस मरीजों की कुल संख्या 7,27,162 के पास पहुंच चुकी है. दुनियाभर में कोरोनावायरस महामारी से प्रभावित देशों की लिस्ट में रूस चौथे स्थान पर है यहां इस बीमारी से अब तक 11,188 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

Trending