Connect with us

विदेशी

अमेरिका से चीन के स्नातक स्तर के छात्रों को, देश से निकाला जा सकता है

Published

on

Deport students from China

नई दिल्ली (30 मई ) परमजीत:- यूनाइटेड स्टेट अमेरिका और चीन के आपसी संबंधों के अंदर दिनोंदिन तनाव बढ़ता चला जा रहा है और इसका असर अब अमेरिकी विश्वविद्यालयों से स्नातक कर रहे उन हजारों चीनी छात्रों के ऊपर भी पड़ सकता है. जिनको ट्रंप प्रशासन बहुत जल्द बाहर का रास्ता दिखा सकता है | यूनाइटेड स्टेट अमेरिका चीन के अधिकारियों पर नहीं पाबंदियां भी लगा सकता है |

Advertisement

Trudeau ने महामारी से लड़ने के लिए वैश्विक सहयोग का आह्वान किया

गौरतलब है कि व्यापार, कारोबार, वैश्विक महामारी कोरोना मानव अधिकार और हांगकांग के दर्जे को लेकर दोनों देशों के अंदर बातचीत के दौरान तनाव चल रहा है | अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह भी कहा है. कि चीन के बारे में शुक्रवार को नई घोषणा कर सकते हैं | प्रशासनिक अधिकारियों ने भी बताया कि वह चीन के खुफिया विभाग या पीपल्स लिबरेशन आमी से संबद्ध चीन के शैक्षणिक संस्थानों से जुड़े छात्रों का अमेरिकी वीजा रद्द करने के महीनों पुराने प्रस्ताव के ऊपर अब विचार कर सकते हैं |

1 जून से केवल यात्री ही, Toronto Pearson International Airport में प्रवेश कर पाएंगे.

अधिकारियों ने यह भी बताया है कि ट्रंप चीन के अधिकारियों पर यात्रा एवं वित्तीय पाबंदी लगाने के बारे में भी विचार कर रहे हैं. ट्रंप ने बृहस्पतिवार को संवाददाताओं से बातचीत करते हुए यह कहा कि चीन के बारे में हम क्या कह रहे हैं क्या कर रहे हैं | यह घोषणा हम कल करेंगे। हम चीन से बिल्कुल भी खुश नहीं हैं, वीजा रद्द करने के प्रस्ताव का अमेरिकी विश्वविद्यालयों और वैज्ञानिक संगठनों ने भारी विरोध भी किया है |

इस बारे में अधिकारियों का यह भी कहना है कि कोई भी पाबंदी इस तरह से लगाई जाएगी। जिससे कि केवल वे छात्र प्रभावित हूं जो जासूसी या बौद्धिक संपदा की चोरी जैसा खतरा पैदा कर सकते हैं | उन्होंने यह नहीं बताया कि कितने छात्रों को अमेरिका से निकाला जाएगा हालांकि यह कहना किस देश में मौजूद चीनी छात्रों का एक छोटा सा हिस्सा होगा। इसी प्रस्ताव से शैक्षणिक समुदाय भी बड़ी चिंता में डूब गया है |

ओंटारियो के Long Term Care Homes के खिलाफ, सेना द्वारा गंभीर आरोप

अमेरिकी शिक्षा परिषद ने सरकारी संबंध मामलों की निर्देशक सारा स्प्रिटजर ने बताया। इसे कितने व्यापक पैमाने पर लागू किया जाएगा। यह सोचकर हम बहुत ज्यादा चिंतित हैं. हमसे यह संदेश जाएगा कि हम दुनिया के प्रभावशाली छात्रों और विद्वानों का अब स्वागत बिल्कुल नहीं करते हैं | अंतरराष्ट्रीय शिक्षक संस्थान शिक्षा संस्थान के मुताबिक अमरीका के अकादमिक वर्ष 2018 19 में स्नातक स्तर ने चीन के 133,396 छात्र थे. जो अंतरराष्ट्रीय छात्रों का 36 पॉइंट 1 फ़ीसदी था |

गौरतलब है कि अगर ऐसा फैसला अमेरिकी सरकार की तरफ से निकल कर आएगा तो उन चीनी छात्रों का भविष्य चिंता के समंदर में डूब जाएगा जो अपना नया भविष्य तलाशने के लिए अमेरिका में आए थे |

Trending